समस्तीपुर

समस्तीपुर में बनाए जा रहे 36 मॉडल आंगनबाड़ी केंद्र

समस्तीपुर । समेकित विकास परियोजना के तहत जिले के 36 आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडल बनाया जा रहा है। इसमें से अब तक 30 को मॉडल बना लिया गया है। ये सभी केंद्र अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस व चाइल्ड फ्रेंडली होंगे। इनमें बच्चों के लिए स्कूल पूर्व शिक्षा के साथ मनोरंजन के साधन भी उपलब्ध होंगे। फर्श व दीवारों को बच्चों से जुड़ी विभिन्न कलाकृतियों से आकर्षक बनाया जाएगा। आईसीडीएस विभाग द्वारा आंगनबाड़ी केंद्रों की दशा व दिशा बदलने के साथ ही हाईटेक बनाया जा रहा है। ताकि सुविधाओं से पूर्ण बेहतर माहौल में बच्चों का सर्वांगीण विकास हो सकेगा। विभागीय जानकारी के अनुसार जिले में निर्वाचन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद शेष बचे आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडल बनाने के दिशा में युद्धस्तर पर काम शुरू किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण स्तर के बच्चों को प्ले स्कूल की तर्ज पर शिक्षा दी जा सके। ताकि, वह बौद्धिक व मानसिक रूप से विकसित हो सके।

मॉडल केंद्र में रहेंगी ये सुविधाएं

एसी, टीवी, लिखने के लिए सादी सतह, लकड़ी की खुंटी, बच्चों के लिए किताबों का कोना, झूला, फर्श पर पेंटिग व ज्यामितीय आकृतियां, पीने व हाथ धोने को पानी की व्यवस्था, चौकी, मेज व बिस्तर, बगीचा, केंद्र के बरामदे व बाहरी दीवारों पर पेंटिग आदि।

मॉडल बनने के बदल गया लुक

आईसीडीएस की डीपीओ ममता वर्मा ने बताया चयनित आंगनबाड़ी केंद्रों के मॉडल होने के बाद उनका लुक बदला-बदला नजर आ रहा है। केंद्रों में नामांकित बच्चों को आने वाले दिनों में खेल-खेल में ही पढ़ाया जा सकेगा। मॉडल होने के बाद आंगनबाड़ी केंद्र में फर्नीचर, खाने की वस्तुएं, दवाइयां, सीखने- सिखाने का सामान, किताबें, खिलौने, संदेश और जानकारी की सामग्री बांटने आदि की सुविधाएं उपलब्ध होंगी। जिसका लाभ आंगनबाड़ी केंद्र पर नामांकित बच्चों को मिलेगा।

30 आंगनबाड़ी केंद्रों की व्यवस्था में हो गया बदलाव

आईसीडीएस की जिला समन्वयक निशु कर्ण ने बताया मॉडल तकनीकी के तहत 30 केंद्र का निर्माण कार्य पूरा कर उसे संचालित भी किया जा रहा है। ये सभी केंद्र छोटे बच्चों के समग्र विकास के लिए उनके शारीरिक, मानसिक व बौद्धिक विकास में सहायक होगा। उनके स्वस्थ जीवन में स्कूल पूर्व शिक्षा और पोषाहार का भी आधार है। बच्चों के समग्र विकास के लिए प्ले स्कूल की तर्ज पर आंगनबाड़ी में बच्चों को सुविधा दी जाएगी। इसको लेकर जिले में 36 मॉडल आंगनबाड़ी केंद्र भवन का निर्माण कराया जाना है। इन भवनों का निर्माण बाढ़ तथा भूकंप जैसी आपदाओं से बचाव को ध्यान में रखते हुए कराया जाएगा।

Share This Post