समस्तीपुर

रोसड़ा में अतिक्रमणकारियों पर चला प्रशासन का बुलडोजर

समस्तीपुर। नए अनुमंडलाधिकारी ब्रजेश कुमार ने अतिक्रमणकारियों के विरुद्ध कड़ा रुख अख्तियार किया है। एसडीएम के निर्देश पर शुक्रवार को मुख्यालय में अतिक्रमण मुक्ति अभियान प्रारंभ किया गया। अंचलाधिकारी अम्बपाली यादव के नेतृत्व में घंटों चले अभियान के दौरान दर्जनों अवैध निर्माण एवं दुकानों को जेसीबी एवं मजदूरों के सहारे हटाया गया। साथ ही दोबारा अतिक्रमण करने पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई। अनुमंडल कार्यालय परिसर स्थित अवैध चाय-पान एवं अन्य दुकानों को हटाने के साथ प्रारंभ हुआ यह अभियान अनुमंडल रोड एवं एसएफसी गोदाम रोड में चलाया गया। आगे-आगे पुलिस बल के साथ पदाधिकारी व कर्मियों की टोली और उसके पीछे जेसीबी ट्रैक्टर संग चल रहे नगर पंचायत के मजदूर को देख अतिक्रमणकारियों में हड़कंप मच गया। कई लोग अपना अपना सामान हटाने का प्रयास करने लगे, लेकिन एक सप्ताह पूर्व नोटिस जारी करने के बावजूद नहीं हटाए गए अतिक्रमण से संबंधित सामग्रियों को जब्त कर नपं कार्यालय के हवाले कर दिया गया। एक-दो स्थानों पर अतिक्रमणकारी महिला द्वारा हंगामा करने के कारण पुलिस को काफी मशक्कत भी उठानी पड़ी। बताते चलें कि योगदान करने के दूसरे दिन ही अनुमंडलाधिकारी ने परिसर व कार्यालय के सामने अतिक्रमण देख अविलंब हटाने का निर्देश अंचलाधिकारी को दिया था। इसके आलोक में सीओ द्वारा सभी अतिक्रमणकारियों को नोटिस जारी करते हुए प्रचार-प्रसार भी कराया तथा एक सप्ताह के अंदर अवैध रूप से कब्जा किए गए सरकारी जमीन को खाली करने का आदेश दिया गया। प्रचार प्रसार के पश्चात अनुमंडल के सामने मुख्य सड़क से करीब आधा दर्जन अतिक्रमणकारियों ने तो अवैध कब्जा खाली कर दिया। लेकिन आज भी कई स्थानों पर कब्जा देख दलबल के साथ प्रशासन ने उसे हटाने के लिए बुलडोजर का प्रयोग किया। मौके पर पुलिस पदाधिकारी गंगा प्रसाद महतो, एवं राजस्व कर्मी सुनील कुमार सिंह के अलावे महिला पुलिस के जवान भी शामिल थे। अनुमंडल दंडाधिकारी ब्रजेश कुमार ने उक्त अभियान जारी रहना बताते हुए कहा कि सभी सरकारी भूमि पर से अतिक्रमण हटाया जाएगा। कहा कि अनुमंडल रोड को पूर्णत: खाली कराने के पश्चात द्वितीय चरण में ब्लॉक रोड एवं अन्य मुख्य सड़कों पर भी यह अभियान जारी रहेगा।

जेल परिसर में करनी पड़ी मशक्कत

अनुमंडल रोड में ही उपकारा रोसड़ा के सामने एक किनारे पर अवैध रूप से रह रही एक महिला एवं उसके घर को हटाने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। अभियान में शामिल पदाधिकारी व पुलिसकर्मी के पहुंचते ही वह महिला रोते चिल्लाते पुलिस कर्मियों से उलझ पड़ी। हालांकि महिला पुलिस द्वारा उसे कब्जे में लिया गया। बावजूद वह कलेजा पीटते और गाली गलौज करते हुए प्रशासन को कोस रही थी। अपने आप को गरीब और भूमिहीन बताते हुए कोई आसरा या जगह नहीं रहना बता रही थी। काफी देर तक हंगामा के बीच अंतत: महिला पुलिस ने रोती बिलखती व हंगामा करती उक्त महिला को कब्जे में लिया। तत्पश्चात बुलडोजर से अवैध निर्माण को ध्वस्त किया गया। मौके पर अंचलाधिकारी ने भूमिहीन रहने की स्थिति में सरकार द्वारा जारी योजना के तहत नियमानुकुल लाभ देने का आश्वासन दिया।

Share This Post