nitish kumar/samachar9
बिहार विधानसभा चुनाव 2020

नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, नहीं चुका पाए हैं एजुकेशन लोन तो माफ कर देगी सरकार

बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने दावा किया है कि राज्य में अगर फिर से उनकी सरकार बनती है तो एजुकेशन लोन को माफ कर दिया जाएगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी सरकार फिर से सत्ता में आई तो बिहार में मेगा स्किल सेंटर बनाए जाएंगे। युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इससे उनके लिए हर क्षेत्र में रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। वे नाथनगर से जदयू प्रत्याशी लक्ष्मीकांत मंडल के समर्थन में जगदीशपुर स्थित लोकनाथ उच्च विद्यालय में चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने बाद में भागलपुर के गोपालपुर, सहरसा के सिमरी बख्तियारपुर व सोनवर्षाराज और खगड़िया के बेदलौर में एनडीए प्रत्याशियों के समर्थन में चुनावी सभाओं को संबोधित किया। सिमरी बख्तियारपुर की सभा में मुख्यमंत्री ने कहा, ”अगर कोई व्यक्ति शिक्षा ऋण नहीं चुका पाता है तो सरकार उसे माफ कर देगी।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब हर आठ से 10 पंचायत पर एक पशु चिकित्सालय खोले जाएंगे। इससे लोगों को पशुओं का इलाज कराने के लिए दूर नहीं जाना पड़ेगा। इलाज के साथ मुफ्त में दवाइयां भी मिलेंगी। जल जीवन हरियाली में उनकी सरकार ने काफी काम किया है। यदि कुछ बचा है तो उसकी भी समीक्षा करके फिर से काम करेंगे। अपनी उपलब्धि बताते हुए कहा कि कंप्यूटर पर काम करने के लिए 10 लाख लोगों ने प्रशिक्षण लिया है। 

लालटेन का जमाना अब खत्म हो गया: सीएम
गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र के साहू परबत्ता उच्च विद्यालय मैदान में सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हम केंद्र के साथ मिलकर बिहार को नई ऊंचाइयों तक ले जाना चाहते है। पूरे बिहार के बारे में सोचते हैं। वहीं, कुछ लोग परिवार, पति-पत्नी और बेटा के विषय में सोचते हैं। हम समाज के हर तबके व इलाके के विकास के लिए काम कर रहे हैं। हमने पहला काम पंचायती राज में नगर निकाय में 50 प्रतिशत सीटें महिलाओ को दी। तीन बार से चुनाव में बड़ी संख्या में महिलाएं चुनकर आ रही हैं। 

जर्जर सेतु पहुंच पथ देखकर समानान्तर पुल बनाने की बात सोची
सीएम ने कहा कि मैंने अपनी आंखों से सेतु पहुंच पथ की जर्जर स्थिति देखी थी। उसी समय समानान्तर पुल बनाने की बात सोची। अब प्रधानमंत्री के सहयोग से पुल का शिलान्यास भी हो गया है। जर्जर तार को बदला गया। इस समय छह हजार मेगावाट बिजली खपत हो रही है। अब लालटेन का जमाना खत्म हो गया है। घर-घर पक्की नाली- गली का काम पूरा हो गया है। 

Share This Post