टेक & ऑटो

Google search को टक्कर देने के लिए Apple कर सकती है अपना सर्च इंजन लॉन्च, पढ़ें डिटेल्स

हाल ही में आई कई रिपोर्ट्स से पता चला है कि ऐप्पल जल्द ही अपना सर्च इंजन लॉन्च कर सकता है। देखा जाए तो सर्च इंजन स्पेस में कई सालों से गूगल ने ही अपनी धाक जमा रखी है। लेकिन अब ऐसा लग रहा है कि ऐप्पल भी जल्द इस कॉम्पीटिशन में उतरने वाला है। इससपे पहले Yahoo और Bing थे जो गूगल को टक्कर दिया करते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है। ऑनलाइन एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसे कई कंपनी ने ऐसे कई सकेंत दिए है जो इस कदम की ओर इशारा करते हैं।

ऐप्पल ने हाल ही में अपने सर्च इंजन की हायरिंग के लिए इंजीनियरों के हायरिंग शुरू की है। अपने स्पॉटलाइट सर्च इंजन के लिए ऐप्पल ने ये हायरिंग शुरू की है।एक रिपोर्ट ये भी है कि आईओएस 14 वर्जन में ऐपल ने गूगल को किनारे कर दिया है। स्पॉटलाइट सर्च ऐप्पल और मैक में दिया गया एक सर्च फीचर है जहां यूजर अपने मैकबुक डिवाइस से लेकर इंटरनेट का कंटेंट भी सर्च कर सकता है। ये भी गूगल की तरह ही है। ऐप्पल की सर्च इंजन के लिए निकाल गई नौकरियों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), मशीन लर्निंग (ML) और नैचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिसंग (NLP) का जिक्र भी किया गया है। जिस हिसाब से ऐप ल इन जब का उल्लेख किया है उससे ऐसे संकेत मिलते हैं कि कंपनी अपने सर्च इंजन में इन सभी को इम्प्लाई करने के फिराक में हैं।

जॉब डिस्क्रिप्शन और स्पॉटलाइट सर्च बिहेवियर के हिसाब से Coywolf ने अनुमान लगाया है कि ऐप्पल का सर्च इंजन व्यक्तिगत डेटा हब के रूप में काम कर सकता है। पोस्ट से पता चलता है कि यह एंड्रॉएड डिवाइस पर Google असिस्टेंट के समान हो सकता है। लेकिन विज्ञापनों न होने की बात कही गई है और इसे पूरी तरह से निजी बताया जा रहै है कंपनी iOS यूजर्स के संपर्कों, दस्तावेजों, ईमेल, घटनाओं, फाइलों, संदेशों, नक्शों, संगीत, नोट्स, समाचार, फोटो, रिमाइंडर, टीवी शो और फिल्मों पर आधारित खोज परिणामों के सर्वोत्तम उपयोग के लिए AI और ML का इस्तेमाल कर सकती है। 


पोस्ट ने यह भी अनुमान लगाया कि Apple का सर्च इंजन Google के सर्च पर एकाधिकार को चुनौती दे सकता है और उसके रेवन्यू पर भी असर डाल सकता है।
ऐप्पल को पैसे देता है गूगल डिफॉल्ट यूजर बनने के लिए गूगल ऐप्पल को भारी राशि का भुगतान करता है। जुलाई में, यूके कॉम्पिटिशन एंड मार्केट्स अथॉरिटी ने कहा कि ऐप्पल और गूगल के बीच की व्यवस्था सर्च इंजन मार्केट में गूगल के प्रतिद्वंद्वियों के लिए “प्रवेश और विस्तार के लिए एक महत्वपूर्ण अवरोध” बनती है। अब ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि ऐप्पल जल्द ही गूगल के साथ चल रही अपनी इस साझेदारी को खत्म कर सकता है।

Share This Post