Nitish Kumar Jansamwad
बिहार विधानसभा चुनाव 2020

Bihar Election: नीतीश बोले-सिर्फ गड़बड़ी वालों को नहीं दिखता हमारा काम

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने चुनाव  अभियान के तहत ‘निश्‍चय संवाद’ के दूसरे दिन दो चरणों में 24 विधानसभा क्षेत्रों के लोगों को सम्‍बोधित किया। दूसरे चरण में मंगलवार शाम 13 विधानसभा क्षेत्रों को सम्‍बोधित करते हुए नीतीश ने विपक्ष पर जमकर हमला बोला। 

कहा कि बिहार में सरकार ने हर क्षेत्र में काम किया है। राजद राज के अंतिम साल 2005-06 में राज्‍य सकल घरेलू उत्‍पाद 76467 करोड़ था जो 2019-20 में बढ़कर 4.15 लाख करोड़ तक पहुंच गया। पहली बार विकास दर डबल डिजिट में पहुंच गई। 2009 में पहली बार जब इसकी रिपोर्ट आई तब लोगों को पता चला कि बिहार में देश की सबसे ज्‍यादा विकास दर आई है। लेकिन गड़बड़ी में यकीन करने वालों को बिहार में विकास नहीं दिखता। 2005-06 में प्रति व्‍यक्ति राज्‍य सकल घरेलू उत्‍पाद 8481 रुपए था। 2019-20 में बढ़कर यह हो गया 34413 रुपए। बिहार की प्रति व्‍यक्ति आय भी हर साल साढ़े दस प्रतिशत की दर से बढ़ी है। 

नीतीश ने कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि कहां कुछ हो रहा है। जबकि सच्‍चाई यह है कि सिर्फ गड़बड़ काम नहीं हो रहा है। हर क्षेत्र में काम हो रहा है। सब जानते हैं कौन सेवा कर रहा है, कौन मेवा खाता रहा। नीतीश ने लालू-राबड़ी के 15 साल के राज पर सवाल उठाते हुए पंचायत चुनाव में आरक्षण लागू करने को अपनी उपलब्धि के तौर  पर गिनाया। छात्राओं और छात्रों को स्‍कूल जाने के लिए साइकिल देने, स्‍वयं सहायता समूह, जीविका समूह जैसी योजनाओं का विस्‍तार से जिक्र करते हुए नीतीश ने कहा कि हमसे पहले 15 साल तक राज करने वालों के समय में क्‍या हुआ। कोई भी आंकलन कर सकता है। 

उन्‍होंने कहा कि हर गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट लगाए जाएंगे। गांवों में रहने वाले लोगों को कोई तकलीफ न हो सरकार को इसकी चिंता है। एनडीए के प्रमुख घटक दलों के मन में अगर कोई विकास की योजनाएं आयेगी तो हम मिलकर उसपर भी काम करेंगे। बिना वजह बहुत लोग बेकार की बातें करते है। हम काम में विश्वास करते है और मेरे लिए पूरा बिहार परिवार है। लोगों की सेवा करना ही हमारा धर्म है। 

शराब बंदी की वजह से हमसे है चिढ़ 
सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि उन्‍होंने महिलाओं के  अनुरोध पर शराब बंदी लागू की। इससे बहुत से लोगों को हमसे चिढ़ है लेकिन हकीकत में इससे परिवार खुशहाल हुए हैं। 

अपराध के मामले में 23 स्‍थान पर आया बिहार
नीतीश कुमार ने अपराध के ग्राफ में गिरावट का उल्‍लेख करते हुए कहा जहां राजद के राज में बिहार में लोग शाम होने के बाद घर से बाहर नहीं निकलते थे वहीं अब बिहार देश में 23 वें नंबर पर है। उन्‍होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार में अपराध नियंत्रण की क्‍या स्थिति थी सब जानते हैं। मुख्‍यमंत्री ने भागलपुर दंगे का उल्‍लेख करते हुए कहा कि वह दंगा देश के चंद भयावह दंगों में से एक था लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। हम सत्‍ता में आए तो पीडि़तों को मदद दी। दोषियों पर कार्रवाई कराई। 

कोरोना काल में 15 लाख लोग क्‍वारंटीन में रहे
मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि कोरोना काल में हमने सभी लोगों की हरसंभव मदद की कोशिश की। करीब 15 लाख लोगों को क्‍वारंटीन किया गया। उनमें से हर एक पर 5300 रुपए खर्च हुए। जांच से लेकर इलाज तक सभी बातों का ख्याल रखा गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग सेवा-सेवा बोलते रहते हैं लेकिन बस मेवा खाना चाहते हैं। हमारे लिए सेवा ही धर्म है। हमने जिन कार्यक्रमों की घोषणा की सभी को पूरा किया है। अब उद्देश्य है सक्षम बिहार- स्वाबलंबी बिहार बनाने का। यह चुनाव बिहार को विकसित प्रदेश बनाने का है। अपनी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए सीएम ने कहा कि आज जीडीपी 2006-07 के 88 हजार करोड़ से 4 लाख 14 हजार 977 करोड़ हो गई है। प्रति व्यक्ति आय 34 हजार 483 रुपये पहुंच गई है। लोग विकास की बात करते हैं लेकिन उनको पता ही नहीं है कि बिहार का कितना विकास हुआ है। पूरे राज्य की वृद्धि हुई है कोई यहां उद्योग नहीं लगाना चाहता क्योंकि यहां समुद्र नहीं है इसलिए हम स्थानीय स्तर पर उद्योग लगाने के लिए काम कर रहे हैं।

Share This Post