बिहार

चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में बिहार का जवान शहीद

लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में बिहार रेजिमेंट के सारण निवासी जवान सुनील कुमार शहीद हो गए। शहीद सुनील कुमार परसा थाना क्षेत्र के दिघरा निवासी सुखदेव राय के बेटे थे। हिंसक झड़क में सुनील की मौत की खबर सुनकर दिघरा स्थित घर में मातम छा गया। 

गलवान घाटी में सोमवार की रात को डि-एस्केलेशन की प्रक्रिया के दौरान दोनों सेनाओं की हिंसक झड़प में बिहार रेजिमेंट के जवान सुनील कुमार, झारखंड के साहिबगंज जिला के डिहारी गांव के रहने वाले कुंदन कांत ओझा और एक सैन्य अधिकारी शहीद हुए हैं। पिछले 45 वर्षों में भारत-चीन सीमा पर इस तरह की पहली घटना है जो दोनों देशों के बीच व्यापक तनाव को दर्शाता है।

भारतीय पक्षों के मुताबिक चीन के कई सैनिक भी हताहत हुए हैं। हालांकि देर शाम तक चीन अपने हताहत हुए जवानों के बारे में कुछ भी कहने से बचता रहा लेकिन देर शाम को आखिरकार चीन ने मान लिया कि सोमवार (15 जून) रात वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लद्दाख की गलवान घाटी में हिंसक झड़प के दौरान उसके भी सैनिक मारे गए हैं। हालांकि उसके कितने सैनिक हताहत हुए हैं, इसकी जानकारी उन्होंने नहीं दी। चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स के हवाले से चीन की सेना (पीएलए) का यह बयान जारी हुआ है।

वहीं चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने चीनी सैनिकों के मारे जाने की बात स्वीकार की है। हालांकि चीनी विदेश मंत्रालय और पीएलए ने अब तक चुप्पी साध रखी है। ग्लोबल टाइम्स की चीफ रिपोर्टर ने पहले 5 सैनिकों के मारे जाने की बात स्वीकार की, लेकिन कुछ ही देर बाद कहा कि उन्होंने भारतीय मीडिया में देखने के बाद यह बात कही थी। इसके कुछ देर बाद ही, ग्लोबल टाइम्स के एडिटर इन चीफ हू शीजिन ने भी स्वीकार किया है कि झड़प में चीनी सैनिक मारे गए हैं। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स की चीफ रिपोर्टर वांग वेनविन के मुताबिक, भारतीय सेना ने भी चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए)  के पांच सैनिकों को मार गिराया। दोनों सेनाओं की ओर से कोई फायरिंग हुई और डंडों व पत्थरों से एक-दूसरे पर हमला किया। हालांकि, कुछ ही देर बाद वांग ने कहा कि यह बात उन्होंने भारतीय मीडिया में देखने के बाद कही। 

Share This Post