समस्तीपुर

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर टायर फटने से खाई में गिरी कार, समस्तीपुर के दो की मौत

समस्तीपुर । आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर टायर फटने से तेज रफ्तार स्कॉर्पियो दो सौ मीटर तक घिसटने के बाद 50 मीटर गहरी खाई में गिर गई। हादसे में दो लोगों की मौत हो गई, जबकि तीन की हालत गंभीर है।

समस्तीपुर के रोसड़ा थाना क्षेत्र के पवड़ा गांव के निवासी रामप्रीत चौरसिया (50) पत्नी मीरा देवी (45) के साथ दिल्ली से समस्तीपुर लौट रहे थे। उनके साथ गांव के ही महेश चौरसिया (42), जय प्रकाश चौरसिया (40) भी स्कॉर्पियो में सवार थे। मूलरूप से गौतमबुद्धनगर के दादरी थाने के धूमनितपुर गांव निवासी चालक अजय सभी को लेकर शनिवार शाम दिल्ली से निकले। रविवार तड़के उन्नाव के बेहटा में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर अचानक टायर फटने से स्कॉर्पियो बेकाबू होकर पलटते हुए खाई में गिर गई। स्कॉर्पियो सवार लोगों की चीखें सुनकर पेट्रोलिंग टीम, पुलिस और राहगीरों ने सभी को बाहर निकाला, तब तक जयप्रकाश और मीरा देवी की मौत हो गई। गंभीर रूप से घायल रामप्रीत, महेश और चालक अजय को लखनऊ में भर्ती कराया गया है। एसओ अजयराज वर्मा ने बताया कि जख्मी चालक अजय स्कॉर्पियो चलाकर परिवार का गुजर-बसर करता है, जबकि बाकी सभी लोग दिल्ली में ए-92, दीप बिहार में रहकर नौकरी करते थे।

चार दिन पूर्व ही हुआ था मां का निधन

 लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे पर लखनऊ के निकट हुए सड़क हादसे में रोसड़ा थाना के पवड़ा निवासी एक महिला समेत दो की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। बुरी तरह जख्मी 3 लोगों को सदर अस्पताल लखनऊ पहुंचाया गया। हालत नाजुक देखते हुए चिकित्सकों ने लखनऊ मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। जहां इलाज जारी है। मृतकों की पहचान गांव के रामप्रीत चौरसिया की पत्नी मीरा देवी (45) तथा विलट चौरसिया के पुत्र जय प्रकाश चौरसिया (40) है। जबकि बुरी तरह जख्मी रामप्रीत चौरसिया (50) रामकृष्ण चौरसिया (56) तथा महेश कुमार पंकज (45) का इलाज जारी है। रोसड़ा के सोनूपुर दक्षिण पंचायत के चौरसिया टोला वार्ड नंबर 10 निवासी पूरा परिवार दिल्ली से स्कॉर्पियो से अपने घर लौट रहा था। रविवार की सुबह आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर वाहन का अगला टायर फट गया । और वह अनियंत्रित होकर पलट गई। रामप्रीत चौरसिया की मां का निधन चार दिन पूर्व हो गया था । हरिद्वार में अंतिम संस्कार करने के पश्चात अपने परिवार के साथ सभी अपने घर लौट रहा था। इसी क्रम में यह घटना हुई। महज 4 दिनों में मां और पत्नी दोनों को खो दिया रामप्रीत ने

केवल 4 दिनों के अंतराल में 50 वर्षीय रामप्रीत चौरसिया ने पहले अपनी मां और फिर पत्नी को भी गवा दिया। विधि के विधान ने बुरी तरह जख्मी रामप्रीत को झकझोर के रख दिया । वर्षों से रामप्रीत पूरा परिवार दिल्ली में ही रह कर जीवन यापन करता है। 4 दिन पूर्व मां की मृत्यु हो गई । बड़े भाई रामकृष्ण चौरसिया द्वारा हरिद्वार में मुखाग्नि के साथ अंतिम संस्कार किया गया। गांव समाज में पहुंचकर श्राद्ध कर्म करने के लिए वह पूरे उत्साह से परिवार के साथ निकला था। लेकिन, इस दुर्घटना ने उसे झकझोर कर रख दिया। मृतक मीरा देवी 3 बच्चे की मां थी। पुत्र दीपक एवं काकू तथा पुत्री ज्योति कुमारी भी दिल्ली में ही रह रहे हैं। घटना की खबर मिलते ही सभी रोते- बिलखते लखनऊ पहुंच चुके हैं।

विधवा बनी अरहुल देवी, रानी के सर से उठा पिता का साया लखनऊ में सड़क हादसे में जयप्रकाश चौरसिया की हुई मौत से 35 वर्षीय अरहुल देवी विधवा हो गई। वहीं एक मात्र 12 वर्षीया पुत्री रानी कुमारी के सिर से पिता का साया उठ गया। मौत की खबर मिलते ही पत्नी व पुत्री दोनो बेसुध हो गए। अन्य स्वजनों का भी रो- रो कर बुरा हाल है। रविवार की सुबह हई घटना की सूचना मिलने पर पवड़ा में रामकृष्ण चौरसिया के घर के सामने लोगों का जमावड़ा लग गया। पूरा चौरसिया टोला मातमी सन्नाटे में है। सूरज चौरसिया, रोशन कुमार, बम बम चौरसिया, अरविद चौरसिया एवं गौरीशंकर चौरसिया ने कहा कि इस दुर्घटना से चौरसिया टोला को एक बड़ी क्षति हुई है। मृतक देवर-भाभी अत्यंत ही व्यवहार कुशल थे। मृतक जयप्रकाश की भाभी राम कुमारी देवी, सरिता देवी एवं संगीता देवी तथा चाची कमली देवी आदि का रो रो कर बुरा हाल था।

Share This Post