बिहार

बिहार के छह यूनिवर्सिटी में कुलपतियों की नियुक्ति जल्द होगी, अंतिम चरण में पहुंची प्रक्रिया

बिहार के छह परंपरागत विश्वविद्यालयों में कुलपतियों की शीघ्र ही नियुक्ति की जा सकती है। इस साल के आरंभ से ही राजभवन सचिवालय द्वारा चल रही वीसी नियुक्ति की प्रक्रिया अब अपने अंतिम चरण में पहुंच चुकी है। कुलपतियों की नियुक्ति के लिए गठित अलग-अलग सर्च कमेटियों की अनुशंसाएं आ चुकी हैं। अब केवल राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच विमर्श होना बाकी है। इसके साथ ही राज्य के 8 विश्वविद्यालयों में प्रति कुलपतियों के पद भी शीघ्र भरे जाने के आसार हैं। 

गौरतलब है कि राज्य के छह विश्वविद्यालयों पटना विवि, ललित नारायण मिश्र मिथिला विवि, कामेश्वर सिंह संस्कृत विवि दरभंगा, तिलकामांझी विवि भागलपुर, जयप्रकाश विवि छपरा और बीएन मंडल विवि मधेपुरा में कुलपतियों के पद पांच-छह माह से रिक्त हैं और कामकाज प्रभार में चल रहा है। इसके साथ ही आठ विवि टीएमबी, पीयू, बीआरए बिहार, एलएनएमयू, मौलाना मजहरुल हक अरबी-फारसी विवि, बीएनएम, जेपी छपरा और केएसडी दरभंगा में प्रति कुलपतियों के पद मार्च-अप्रैल से ही रिक्त हैं। राजभवन सचिवालय ने वीसी और प्रोवीसी के इन रिक्त पदों के लिए पिछले शैक्षिक सत्र में ही आवेदन मांगे थे लेकिन कोरोना के बढ़ते प्रभाव की वजह से आवेदन की तिथि 30 अप्रैल तक बढ़ा दी गयी थी। 

उसके बाद लंबे समय तक आवेदनों की स्क्रूटिनी बाधित रही। फिर राज्य सरकार से शिक्षाविद् प्रो. रामवचन राय को सभी विवि की सर्च कमेटी में नामित होने की अनुशंसा मिलने के बाद यह त्रिसदस्यीय कमेटी बनी। कमेटी ने स्क्रूटिनी के बाद हर विवि के लिए योग्य उम्मीदवारों को शार्टलिस्ट कर इंटरव्यू के लिए बुलाया। जानकारी के मुताबिक इसी माह 3 से 9 सितंबर के बीच सभी का साक्षात्कार हुआ। उसके बाद सर्च कमेटी ने अलग-अलग विश्वविद्यालयों के लिए अपनी अनुशंसाएं बंद लिफाफे में राजभवन को दे दी हैं। परंपरा के अनुसार एक वीसी के लिए तीन से पांच नाम इसमें शामिल हो सकते हैं।

इसी माह चुनाव आचार संहिता लगने के आसार
बिहार राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम के मुताबिक कुलपति पद के लिए सर्च कमेटी की अनुशंसाओं पर राज्यपाल सह कुलाधिपति फागू चौहान और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच विमर्श होगा। उसके बाद सहमति बनने पर नियुक्ति की अधिसूचना जारी होगी। चूंकि विधानसभा का चुनाव नजदीक है और इस माह तक चुनाव आचार संहिता लगने के आसार हैं, इसलिए अगले एक सप्ताह में छह कुलपति और आठ प्रति कुलपतियों की नियुक्ति हो जाने के प्रबल आसार हैं।  

Share This Post
Kunal Raj
Editor-In-Chief l Software Engineer l Digital Marketer