बिहार विधानसभा चुनाव 2020

तीसरे चरण में सुरक्षित सीटों पर चिराग पासवान की सबसे बड़ी परीक्षा, 23 सीटों पर हैं लोजपा के उम्मीदवार

बिहार विधानसभा चुनाव में लोजपा के प्रदर्शन पर तो सबकी निगाहें हैं ही पर, खासकर सुरक्षित सीटों पर उसकी सबसे बड़ी परीक्षा होगी। लोकसभा का चुनाव हो या विधानसभा का, सुरक्षित सीटों पर पार्टी का प्रदर्शन चर्चा में रहता है। ऐसे में इस बार सुरक्षित सीटों पर इनके प्रत्याशी क्या कमाल दिखाते हैं, यह देखना दिलचस्प होगा। गौरतलब हो कि 15 वर्षों बाद इस बार पार्टी अकले चुनाव मैदान में उतरी है।

इसबार 25 सुरक्षित सीटों पर पार्टी ने अपने प्रत्याशी उतारे थे, लेकिन दो सीटों फुलवारीशरीफ और मखदुमपुर में इनके प्रत्याशी का नामांकन रद हो गया। इस तरह अब 23 सुरक्षित सीटों पर लोजपा उम्मीदवार मैदान में हैं। राज्य में कुल 40 सुरक्षित सीटें हैं। तीसरे चरण में आठ सुरक्षित सीटों पर लोजपा उम्मीदवार मैदान में हैं, जहां सात नवंबर को मतदान होना है। इनमें त्रिवेणीगंज, रानीगंज, मनिहारी, सिंघेश्वर, सोनबरसा, सिमरी बख्तियारपुर, बोचहां, सकरा और कल्याणपुर सीटें शामिल हैं।


पहले चरण में नौ और दूसरे चरण में छह पर उम्मीदवारों के किस्मत ईवीएम में कैद हो चुके हैं। पार्टी प्रमुख चिराग पासवान के चचेरे भाई कृष्णराज रोसड़ा सुरक्षित सीट से मैदान में हैं। चिराग पासवान स्वयं जमुई से सांसद हैं, जिसके अंतर्गत सिकंदरा विधानसभा सुरक्षित सीट आती है, वहां पर उन्होंने रविशंकर पासवान को उतारा है।

चिराग के चचेरे भाई कृष्णराज भी मैदान में
पहले चरण में नौ और दूसरे चरण में छह पर उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद हो चुकी है। पार्टी प्रमुख चिराग पासवान के चचेरे भाई कृष्णराज रोसड़ा सुरक्षित सीट से मैदान में हैं। चिराग पासवान स्वयं जमुई से सांसद हैं, जिसके अंतर्गत सिकंदरा विधानसभा सुरक्षित सीट आती है, वहां पर उन्होंने रविशंकर पासवान को उतारा है।

Share This Post