Bihar Election 2020
बिहार विधानसभा चुनाव 2020

चिराग पासवान का बिहार के नाम इमोशनल लेटर, ये अपील कर लिखा- अब हमारे पास खोने के लिए समय नहीं

Chirag Paswan: बिहार विधानसभा चुनाव से पहले एनडीए से नाता तोड़ने के बाद लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अध्यक्ष चिराग पासवान ने सोमवार को बिहार के लोगों को एक खुला पत्र लिखा है. इसमें उन्होंने अपनी पार्टी का वीजन बताते हुए जदयू के प्रत्याशी को वोट नहीं देने की अपील भी की गई है. पत्र में कहा गया है कि जदयू प्रत्याशी को दिया गया एक भी वोट कल आपके बच्चे को पलायन करने पर मजबूर करेगा.

सोशल मीडिया पर शेयर इस पत्र में चिराग ने लिखा है कि बिहार राज्य के इतिहास का ये बड़ा निर्णायक क्षण है. 12 करोड़ बिहारियों के जीवन-मरण का प्रश्न है, क्योंकि अब हमारे पास खोने के लिए और समय नहीं है. लोजपा (LJP) के पूर्व अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के पुत्र चिराग ने अपने खुला पत्र में ‘बिहार फर्स्ट-बिहारी फर्स्ट’ की सोच नहीं मिटने दूंगा की बात करते हुए लिखा, पापा का अंश हूं, कभी भी परिस्थितियों से हार नहीं मानूंगा और ना ही किसी भी कीमत पर ‘बिहार फर्स्ट-बिहारी फर्स्ट’ की सोच को मिटने दूंगा.

उन्होंने पत्र में एनडीए (NDA) से बाहर निकलने के अपने फैसले को सही बताते हुए लिखा कि यह फैसला बिहार पर राज करने के लिए नहीं, बल्कि नाज करने के लिए लिया गया है. उन्होंने आगे लिखा, पापा ने मुझे हमेशा कहा है कि कभी भी अकेले चलने से मत घबराना, अगर रास्ता और मकसद ठीक होगा, तो लाखों लोग तुम्हारे साथ आएंगे. पापा-मम्मी और आप सभी के आशीर्वाद से अभी लम्बा सफर तय करना है अभी और अनुभव लेना है.

पत्र के माध्यम से ही एक बार फिर जदयू पर निशाना साधा. कहा कि जदयू के प्रत्याशी को दिया गया एक भी वोट कल आपके बच्चे को पलायन करने पर मजबूर करेगा. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि लोजपा की राह आसान नहीं है, लेकिन हम लड़ेंगे और जीतेंगे भी. पत्र के अंत में उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से पूरी ताकत से जुटने और लोजपा के प्रत्याशी को जिताने की अपील की है.

अकेले लड़ रही लोजपा

गौरतलब है कि लोजपा ने रविवार को ही नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव लड़ने से इनकार करते हुए 143 सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है.वह भाजपा के खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारेगी. वह जदयू और जीतन राम मांझी की पार्टी हम के खिलाफ उम्मीदवार उतारेगी. पहले चरण के नामांकन से पहले लोजपा के इस फैसले के के कारण बिहारी की राजनीतिक फिजा बदल गई है.

Share This Post