राजनीति

अपनी ही सरकार को बर्बाद कर रही कांग्रेस, फायदे के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा से भी खिलवाड़: गोयल

पंजाब में राजनीतिक उथल-पुथल को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए, केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस कुछ लोगों के छोटे व्यक्तिगत या राजनीतिक लाभ के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता करने के स्तर पर चली गई है। उन्होंने जोर देकर कहा कि भाजपा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सबसे पहले आती है।

न्यूज एजेंसी एएनआई के साथ एक विशेष साक्षात्कार में, पीयूष गोयल ने राहुल गांधी के हमलों पर भी पलटवार किया। उन्होंने कहा “उनकी पार्टी (भाजपा) इसे गंभीरता से नहीं लेती है।” उन्होंने कांग्रेस नेतृत्व पर “अपनी ही सरकारों को लगभग दिन-ब-दिन अस्थिर करने” का आरोप लगाया है।

गोयल ने बिना नाम लिए कहा कि कांग्रेस का वर्तमान नेतृत्व राष्ट्र की चिंताओं से पूरी तरह से दूर हो गया है।  कैप्टन अमरिंदर सिंह की टिप्पणी का जिक्र करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि जिस तरह की चिंता व्यक्त की गई है, वह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है। पंजाब की सीमाएं बहुत गहरी चिंता का विषय हैं।

उन्होंने कहा, “भाजपा नेता के रूप में, मैं पंजाब में कांग्रेस पार्टी में जो हो रहा है, उसके बारे में बेहद चिंतित हूं, क्योंकि हमारे लिए राष्ट्रीय सुरक्षा पहले आती है। आप जानते हैं कि हमारा बुनियादी प्रशिक्षण और सार्वजनिक सेवा की हमारी बुनियादी समझ राष्ट्र पहले है, पार्टी उसके बाद, सेल्फ लास्ट। हम सभी को यही सोचने और काम करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है।”

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब की सीमाओं को लेकर जिस अस्थिरता और चिंता व्यक्त की है, वह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ख़तरा है। वास्तव में यहह पूरे देश के लिए चिंता का विषय है। मैं केवल इतना कह सकता हूं कि यह बहुत, बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस कुछ लोगों के क्षुद्र, व्यक्तिगत या राजनीतिक लाभ के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता करने के स्तर पर चली गई है।”

यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस पंजाब में अपनी समस्याओं का समाधान कैसे करेगी, पीयूष गोयल ने कहा कि वह इस पर टिप्पणी नहीं कर सकते कि कांग्रेस पार्टी क्या करने की योजना बना रही है या क्या करेगी।

उन्होंने कहा, “कांग्रेस की किसी भी कार्रवाई से यह नहीं लगता है कि उन्हें राष्ट्रीय सुरक्षा या राष्ट्र हित की कोई चिंता है। मैंने जी -23 को छोड़कर अभी तक किसी भी वरिष्ठ नेता से कोई टिप्पणी नहीं सुनी है। कांग्रेस का वर्तमान नेतृत्व राष्ट्र की चिंताओं से पूरी तरह से अलग हो गया है।’

राज्य में विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले अमरिंदर सिंह के इस्तीफा देने के बाद चरणजीत सिंह चन्नी ने पंजाब के नए मुख्यमंत्री के रूप में पदभार संभाला। हालांकि पंजाब में सत्तारूढ़ पार्टी एक नए संकट में फंस गई क्योंकि नवजोत सिंह सिद्धू ने 28 सितंबर को राज्य पार्टी प्रमुख के रूप में इस्तीफा दे दिया। 

अमरिंदर सिंह ने कहा है कि वह कांग्रेस छोड़ देंगे और अगर सिद्धू चुनाव लड़ते हैं तो 2022 के विधानसभा चुनाव में उसे हराएंगे। पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी कहा था कि सिद्धू पंजाब के लिए सही आदमी नहीं है। उनके पाकिस्तानी एजेंसियों से संबंध हैं। यह कहते हुए कि पाकिस्तान सीमावर्ती राज्य में हथियार, ड्रोन, विस्फोटक भेजने के लिए जिम्मेदार है और जब आप शीर्ष पर बड़े लोगों को जानते हैं, यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला बन जाता है।

राहुल गांधी के आरोपों पर गोयल ने कहा, “मुझे लगता है, यह लगभग एक मजाक की तरह बन गया है। कुछ टिप्पणियां और ट्वीट जो हमें भारत में कुछ व्यक्तियों से प्राप्त होते रहते हैं, उन्हें हमारी पार्टी गंभीरता से नहीं लेती है। यह उपहास का विषय बन गया है। जो हो रहा है उसके बारे में पार्टी के भीतर। वे अपनी सरकारों को लगभग दिन-ब-दिन अस्थिर कर रहे हैं। ”

Share This Post