Electricity
बिहार

बिहार में नये साल में उपभोक्ताओं को 5 से 10% तक अधिक चुकानी पड़ सकती है बिजली की कीमत

बिहार के विद्युत उपभोक्ताओं के लिए नए साल में नई बिजली दरें लागू हो सकती हैं। दोनों बिजली कंपनियों ने इसके लिए याचिका तैयार कर ली है। बिहार विद्युत विनियामक आयोग के पूरी तरह सक्रिय होने के बाद ही बिजली कंपनी की ओर से बिजली दर की याचिका दायर की जाएगी। 

आयोग में अभी अध्यक्ष और सदस्य पद पर राज्य सरकार की ओर से मनोनयन हो चुका है। लेकिन इनका अभी शपथ ग्रहण नहीं हो पाया है। तकनीकी कारणों से अध्यक्ष और सदस्य का शपथ ग्रहण राजभवन में विचाराधीन है। बिजली कंपनी के अधिकारियों के अनुसार इस महीने के अंतिम दिनों में कंपनी की ओर से बिजली दरों से संबंधित याचिका दायर कर दी जाएगी।

सूत्रों के अनुसार बिजली की मौजूदा दरों में पांच से दस फीसदी की वृद्धि का प्रस्ताव है। हालांकि, कंपनी के प्रस्ताव के बाद विनियामक आयोग की ओर से की जाने वाली जनसुनवाई के बाद ही नई दरें तय होंगी। जो एक अप्रैल से प्रभावी होगी। कंपनी की ओर से दिया जाने वाला प्रस्ताव अनुदान रहित ही होगी।

याचिका दायर की जाएगी
घरेलू और गैर घरेलू श्रेणी के उपभोक्ताओं के लिए नार्थ और साउथ बिहार पावर डिस्ट्रिब्यूशन कंपनी लिमिटेड की ओर से याचिका दायर की जाएगी। जबकि ट्रांसमिशन के लिए बिहार स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड और स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर की ओर से याचिका दायर की जाएगी। 

Share This Post