बिहार

मुंशी सिंह महाविद्यालय में ‘भारत माता की जय’ और ‘वन्दे मातरम्’ लिखने पर छिड़ा विवाद, प्राचार्य ने कराई प्राथमिकी दर्ज

मोतिहारी। बिहार विश्वविद्यालय के अंतर्गत चम्पारण स्थित मुंशी सिंह महाविद्यालय में प्राचार्य और छात्रों के बीच विवाद छिड़ गया है। महाविद्यालय के छात्रों एवं छात्र राजनीति से जुड़े छात्रों ने जब दीवारों पर ‘भारत माता की जय’ और ‘वन्दे मातरम्’ का नारा लिखा तो महाविद्यालय के प्राचार्य को यह भाया नहीं।

हद तो तब हो गयी, जब इस बात के लिए प्राचार्य ने अपने ही महाविद्यालय के छात्रों, जो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्य भी हैं, को नामज़द कर, उनके ख़िलाफ़ जान से मारने की धमकी देने की प्राथमिकी दर्ज कराई।

छात्रों की माने तो उनका ग़ुस्सा अब उबाल पर है और वे एकजुट होकर छात्रशक्ति का प्रदर्शन कर, प्राचार्य के इस हिटलरशाही रवैये के ख़िलाफ़ आंदोलन करने को तैयार हैं। छात्रों का कहना है, कि अपने मातृभूमि के नाम की जय करना कबसे अपराध हो गया।
इस मामले में जहाँ एक तरफ़ ज़िला प्रशासन ने अपनी कार्यवाही शुरू कर दी है, वही दूसरी ओर सोशल मीडिया पर भी यह मामला उबाल लेता नज़र आ रहा है। वहाँ स्थित लोगों का सारा समर्थन छात्रों के साथ है और सबका यही मानना है कि अपने देश, अपनी मातृभूमि के नारे लगाने पर छात्रों पर झूठी प्राथमिकी दर्ज करवाना कहीं से सही नहीं है।

प्राचार्य के रवैये से लोग नाखुश हैं साथ ही नामज़द छात्रों के समर्थन में सारे एकजुट हैं। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ज़िला इकाई भी अपने सदस्यों के समर्थन में उतर चुकी है।
चम्पारण क्रांति की भूमि है, तो इस मामले को काफ़ी गंभीरता से लेने की ज़रूरत है।

Share This Post