समस्तीपुर

समस्तीपुर जिले के 52 निजी अस्पतालों में होगा कोरोना का इलाज

समस्तीपुर । जिले में तीन सरकारी संस्थानों में कोविड अस्पताल खोलने के बाद सिविल सर्जन ने 52 और निजी अस्पतालों को बेड आरक्षित कर कोरोना रोगियों का उपचार करने का आदेश दिया है। सभी अस्पतालों को मानक के अनुरूप इलाज करना है। इन अस्पतालों में स्वास्थ्य विभाग उन्हीं मरीजों को भेजेगा जो इलाज का खर्च खुद वहन करने को तैयार होंगे। हालांकि, अस्पताल कोरोना उपचार के मानक के अनुरूप है कि नहीं, वहां कितने मरीज भर्ती हैं, कितने खाली हैं और मरीजों की हालत कैसी है, इसकी निगरानी सिविल सर्जन कार्यालय करेगा। सिविल सर्जन डॉ. सतीश कुमार सिन्हा ने बताया कि संबंधित प्राइवेट अस्पताल को निर्देश दिया गया है कि अपने संस्थान में कोरोना से संबंधित मरीजों का उपचार कार्य प्रारंभ करते हुए प्रत्येक दिन रिपोर्ट उपलब्ध कराएंगे।

इन प्राइवेट अस्पतालों में उपचार प्रारंभ करने का निर्देश

शहर के मोहनपुर रोड स्थित श्री नारायण इमरजेंसी हॉस्पीटल, लाईफकेयर हॉस्पीटल, कमला ईमरजेंसी हॉस्पीटल, समस्तीपुर आंख अस्पताल, ट्रामा हॉस्पीटल, आदर्शनगर स्थित पुष्पलता देवी चिल्ड्रेन हॉस्पीटल, जेएस हॉस्पीटल, श्याम शिशु सदन, पटेल मैदान के समीप होम हॉस्पीटल, अदिति आंख अस्पताल, काशीपुर स्थित जनता हॉस्पीटल, डॉ. आरपी मिश्रा हॉस्पीटल, संवेदना हॉस्पीटल, पुअर नर्सिंग होम, साई शिवम हॉस्पीटल, आरबी हॉस्पिटल, बारह पत्थर स्थित नंदा क्लीनिक, मां नर्सिंग होम, धर्मपुर स्थित मां धूमावती हॉस्पीटल, मुसरीघरारी स्थित जीवन सहारा हॉस्पीटल, मिथिला आंख हॉस्पीटल, जीवन हॉस्पीटल, हरपुर एलौथ स्थित शिवांगी नर्सिंग होम, विभूतिपुर स्थित डॉ. सीवीपी वर्मा मेमोरियल पॉली क्लिनिक, ताजपुर स्थित जीवन सहारा हॉस्पीटल, दलसिंहसराय स्थित खुशी हास्पीटल, साक्षी हॉस्पीटल, श्री हॉस्पीटल, बाबा हॉस्पीटल, रोसड़ा स्थित आदर्श हॉस्पीटल, वारिसनगर स्थित सुरक्षा हॉस्पीटल, शिवाजीनगर स्थित शिवम नेचुरो केयर हॉस्पीटल शामिल है।

Share This Post