Samastipur Corona Update
पटना

लापरवाही ना बरतें, पटना में थमा नहीं है कोरोना का प्रकोप, इन इलाकों में है सबसे अधिक संक्रमण का खतरा

लॉकडाउन और सतर्कता के कारण पटना जिले में पिछले 15 दिनों में कोरोना वायरस का संक्रमण पहले से कम तो हुआ है लेकिन अब भी पटना सिटी और दानापुर इलाका बीमारी को लेकर अति संवेदनशील बना हुआ है। इसका मुख्य कारण लोगों की लापरवाही मानी जा रही है। 

इन इलाकों में सबसे अधिक लोगों ने लॉकडाउन का उल्लंघन किया है। यही कारण है कि पटना शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रकोप तेजी से घटा है लेकिन इन दो अनुमंडलों में बीमारी घटने की रफ्तार काफी धीमी है। अधिकारियों का कहना है कि जिन इलाकों में लोगों ने लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया तथा विशेष सतर्कता बरती, वहां कोरोना वायरस का संक्रमण कम हुआ है। जहां घनी आबादी है और लॉकडाउन का अनुपालन नहीं हो रहा है वहां अब भी संक्रमण तेज है।

इन इलाकों में सबसे अधिक खतरा
प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार पटना सिटी अनुमंडल के महाराजगंज, मीना बाजार, चौक शिकारपुर, आलमगंज सदर गली, खाजेकलां, मालसलामी इत्यादि इलाकों में अब भी कोरोना वायरस है। पटना के अन्य इलाकों में जिस हिसाब से मरीजों की संख्या घटी है, उसके अनुपात में इन इलाकों में नहीं घट रही है। इसी प्रकार दानापुर अनुमंडल में गोला रोड, खाजपुरा, राजा बाजार, मछली गली, जगदेव पथ, अंबेडकर पथ आदि इलाकों में कोरोना वायरस का प्रकोप पहले की तुलना में थोड़ा कम तो हुआ है लेकिन अभी संक्रमण का खतरा बना हुआ है तथा मरीज मिल रहे हैं।

यहां घटे हैं कोरोना के मरीज
कंकड़बाग, राजीव नगर, राजेंद्र नगर, खेमनीचक, बाईपास, श्री कृष्णा पुरी, बोरिंग रोड, बाजार समिति, सदर अनुमंडल क्षेत्र में मरीजों की संख्या काफी तेजी से घटी है। इसका मुख्य कारण लोगों की सतर्कता और प्रशासनिक व्यवस्था को बताया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि हाल में संरक्षण किया गया, उससे पता चला कि सदर अनुमंडल में काफी तेजी से सुधार हुआ है जबकि पटना सिटी और दानापुर अनुमंडल में अभी प्रकोप है। 

ग्रामीण इलाकों में तेजी से हुआ सुधार
अधिकारियों के सर्वे में पता चला है कि गांव में कोरोना वायरस का संक्रमण काफी कम हो गया है। गांव में वायरस का संक्रमण अब नाम मात्र का रह गया है। हालांकि, उन ग्रामीण इलाकों से,जहां से लोगों का शहर आना-जाना लगा रहता है, वहां संक्रमण है। जैसे बिहटा, पालीगंज, मसौढ़ी, बाढ़, बख्तियारपुर, मोकामा, संपतचक, बेलछी आदि ऐसे इलाके हैं जहां अभी बीमारी का संक्रमण है। 

एक लाख से अधिक मरीजों को हो गई जांच
पटना जिले में अब तक एक लाख से अधिक लोगों की कोरोना जांच की गई है। इसमें 83 हजार 110 लोगों का रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया गया है। 3,171 लोगों का ट्रू नेट टेस्ट किया गया है। 24 हजार 875 लोगों का आरटीपीसीआर टेस्ट किया गया है। इसमें लगभग 19 हजार लोगों में बीमारी का संक्रमण पाया गया है। अभी भी 3 हजार से अधिक लोगों में संक्रमण है। जबकि 15 हजार 527 लोग ठीक होकर घर चले गए हैं। पटना जिले में अब तक कोरोना वायरस के कारण 73 लोगों की मौत हुई है।

Share This Post