dm darbhanga /samachar9
दरभंगा

दरभंगा जिलाधिकारी ने कहा बिना स्थल निरीक्षण के नहीं बंद किए जाएंगे सामुदायिक किचन

दरभंगा। जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एसएम ने कहा है कि बिना स्थल निरीक्षण किए सामुदायिक किचन बंद नहीं किए जाएंगे। अधिकारी लगातार निर्धारित स्थल का निरीक्षण करते रहे। यदि संबंधित इलाके के परिवार अभी भी विस्थापित हैं तो सामुदायिक किचन चालू रखा जाए। यदि पानी घट गया है और विस्थापित परिवार के लोग अपने घर वापस लौट गए हैं तो किचन बंद किया जाए। लेकिन बंद करने से एक दिन पहले संबंधित परिवार के लोगों को सूचित कर दिया जाए, ताकि वे लोग अपनी व्यवस्था कर सकें। वे सोमवार को कलेक्ट्रेट से जिले के सभी अंचल अधिकारी और संबंधित पदाधिकारियों के साथ बाढ़ राहत व पानी उतरने की स्थिति को लेकर ऑनलाइन समीक्षा बैठक कर रहे थे।

क्षतिग्रस्त झोपड़ी और कच्चे मकानों की रिपोर्ट तलब

डीएम ने सभी सीओ कहा कि जिन क्षेत्रों में पानी घट गया है, उस क्षेत्र की क्षतिग्रस्त झोपड़ी या कच्चे मकानों की क्षति का आकलन करा लिया जाए। इससे संबंधित डाटा की भी इंट्री ऑनलाइन की जाए। जिला कृषि पदाधिकारी को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में पानी घटने के साथ ही फसल क्षति का आकलन करा लेने का निर्देश दिया। कहा कि जिन क्षेत्रों में वास्तविक रूप से फसल लगाई गई थी और क्षति हुई है। वहां से फसल क्षति का आकलन करा कर शीघ्र प्रतिवेदन उपलब्ध करा दें।

बैठक में नगर आयुक्त घनश्याम मीणा, उप विकास आयुक्त डॉ कारी प्रसाद महतो, अपर समाहर्ता विभूति रंजन चौधरी, जिला आपूर्ति पदाधिकारी अजय कुमार, सदर अनुमंडल पदाधिकारी राकेश कुमार गुप्ता सहित संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे। सूची से बचे लोगों के नाम भी करें ऑनलाइन दर्ज जिलाधिकारी ने बहेड़ी, बेनीपुर, बिरौल, किरतपुर, कुशेश्वरस्थान, कुशेश्वरस्थान पूर्वी, हनुमाननगर, बहादुरपुर, जाले, दरभंगा ग्रामीण, केवटी, घनश्यामपुर, हायाघाट एवं गौड़ाबौराम के अंचलाधिकारियों से एक-एक कर पीएफएमएस के लिए दर्ज डाटा की समीक्षा की। सभी को सही सर्वेक्षण कराकर अपडेट डाटा भेजने का निर्देश दिया। कहा कि यदि छूटे हुए लोगों की सूची प्राप्त होती है तो उसका भी पुन: सर्वेक्षण करा लिया जाए। इस कार्य में देरी नहीं होनी चाहिए। –

Share This Post