समस्तीपुर

स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान थाने पर झंडा अपमान मामले में डीएसपी ने सौंपी जांच रिपोर्ट, एसपी बाेले- रिपोर्ट के अध्ययन के बाद दोषी पर होगी कार्रवाई

फोटो सेशन में भूल गए थे सम्मान करना : मुफस्सिल थाने पर थानाध्यक्ष विक्रम आचार्या ने फहराया था झंडा, उसके बाद थानाध्यक्ष के साथ पुलिस कर्मियों ने फोटाे खिंचाया था

स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान मुफस्सिल थाने पर झंडा व भारत के नक्शे की रंगाेली के अपमान मामले में मुख्यालय डीएसपी विजय कुमार ने अपनी जांच रिपोर्ट एसपी को सौंप दी है। एसपी विकास बर्मन ने कहा कि डीएसपी ने अपनी जांच रिपोर्ट दे दी है। अभी उन्होंने रिपोर्ट का अध्ययन नहीं किया है।

जांच रिपोर्ट के अध्ययन के उपरांत दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि शुरू से ही इस मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है। स्वतंत्रता दिवस के दौरान फोटो वायरल होने के बाद ही उन्होंने कोई देर किए बिना डीएसपी को जांच कर रिपोर्ट देने को कहा था।
जांच रिपोर्ट आने में लग गए 15 दिन
15 अगस्त को मामला उजागर होते ही एसपी ने मुख्यालय डीएसपी को जांच कर रिपोर्ट देने को कहा था। मामले की जांच घटना के दिन से ही शुरू हो गई।

फोटो खिंचाने में शामिल सभी पुलिस कर्मियों का बयान, स्थल निरीक्षण के बाद डीएसपी ने रिपोर्ट तैयार कर एसपी को सौंपी है। पुलिस कर्मियों पर जांच रिपोर्ट सौंपने में 15 दिनों का समय लग गया।

एक नजर में पूरा मामला
स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान थाना परिसर में ध्वजाराेहण के साथ ही थानाध्यक्ष के साथ पुलिस कर्मी फोटो खिंचाने लगे। इसी दौरान लोग कुछ मिनट पहले तक जिस झंडे के मान-सम्मान के लिए कसम खाए थे, फोटो सेशन में ये बातें भूल गए थे।

प्रतीक चिह्न को रौंद गए थे

पहली तस्वीर में मुफस्सिल थाने पर थानाध्यक्ष विक्रम आचार्या ने झंडा फहराया था। झंडा फहराने के बाद थानाध्यक्ष विक्रम आचार्या के साथ पुलिस कर्मियों ने फोटो खिंचानी शुरू कर दी।

इसके बाद लोग भूल गए कि ध्वाजारोहण स्थल पर बने तिरंगा व भारत माता के प्रतीक चिह्न पर लोग अपने पैर रखे हुए थे।

अशोक चक्र रंगोली पर थे पैर

दूसरी तस्वीर में बिहार पुलिस मेंस एसो. के निवर्तमान जिलाध्यक्ष मुकेश कुमार भी थे। अशोक चक्र पर पैर रख कर फोटो खिंचाते सेक्टर मोबाइल नागेंद्र कुमार के साथ एनजीओ कर्मी थे।

इस तस्वीर में बांऐ से खड़े दो एनजीओ कर्मी के अलावा सेक्टर मोबाइल आनंद कुमार, सेक्टर मोबाइल ललित कुमार, निशांत व सामने से थाना गार्ड थे।

Share This Post