बिहार

बिहार में महंगा सफर, प्राइवेट के बाद अब इसी माह में सरकारी बसों का भी बढ़ने वाला है किराया

बिहार में अब इसी माह से सरकारी बसों का भी किराया बढ़ने वाला है। प्रदेश में डीजल से चलने वाली सरकारी बसों का किराया बढ़ेगा। बिहार राज्य पथ परिवहन निगम ने बसों का किराया बढ़ाने का प्रस्ताव परिवहन विभाग को दिया है। किराए में कितने की वृद्धि हो, यह किराया निर्धारण कमेटी तय करेगी। जल्द इस कमिटी की बैठक होगी। नया किराया दर अप्रैल से ही लागू होगी। 

बिहार में निगम के अधीन कुल 380 बसें हैं। इनमें 360 बसों का परिचालन अभी हो रहा है। 20 बसों का परिचालन तकनीकी कारणों से नहीं हो रहा है। डीजल की बढ़ती कीमतों के मद्देनजर निगम ने बसों का किराया बढ़ाने का निर्णय लिया है। नियमानुसार निगम द्वारा इस बाबत राज्य परिवहन आयुक्त को प्रस्ताव भेजा जाता है। साथ ही किराया निर्धारण कमेटी की बैठक में तय होता है कि बसों का किराया कितना बढ़ाया जाए तो निगम के साथ ही यात्रियों के लिए भी मुफीद हो। हर पहलू पर विमर्श के बाद ही बसों का किराया बढ़ाया जाएगा।

निजी बसों के किराए में हुई है वृद्धि
राज्य की निजी बसों के किराए में हाल ही वृद्धि हुई है। 14 मार्च की मध्य रात्रि से बसों का बढ़ा हुआ किराया लागू हुआ। निजी बसों के संचालक संघ ने 20 फीसदी किराया बढ़ाया है। राज्य में यात्री बसों की संख्या लगभग 60 हजार है। किराया बढ़ाने के पीछे संघ का तर्क था कि डीजल के अलावा टोल टैक्स में वृद्धि हुई। साथ ही बसों का मेंटेनेंस महंगा हुआ। कर्मचारियों को रखने में पूर्व की तुलना में अधिक पैसे खर्च करने पड़ रहे हैं। 

दरभंगा एयरपोर्ट के लिए बस
दरभंगा एयरपोर्ट के लिए निगम विशेष इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन करेगा। शुक्रवार को मुजफ्फरपुर से दरभंगा के लिए इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन होगा। निगम के प्रशासक श्याम किशोर व संबंधित जिले के जिलाधिकारी व नगर आयुक्त की मौजूदगी में बसों का परिचालन शुरू किया जाएगा। एसीयुक्त इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन कराने के पीछे निगम की कोशिश है कि एयरपोर्ट आने-जाने के क्रम में इस पर सफर करने वाले बता सकें कि बढ़ते बिहार में अब इलेक्ट्रिक बसों का भी परिचालन हो रहा है।

Share This Post