दुनिया

इतिहास में पहली बार बिन इलाज ठीक हुआ HIV पीड़ित व्यक्ति ,दुनियाभर के वैज्ञानिक हैरान

इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि एचआईवी पीड़ित व्यक्ति अपने-आप ठीक हो गया। बिना किसी इलाज के ठीक होने से दुनियाभर के वैज्ञानिक और डॉक्टर हैरान हैं, क्योंकि यह बीमारी लाइलाज है। शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता ने इस जानलेवा वायरस को पूरी तरह से खत्म कर दिया। हालांकि इससे पहले दो बार लोगों के शरीर में बोन मैरो ट्रांसप्लांट किया गया था, जिसके बाद शरीर में एचआईवी वायरस बेहद तेजी से कम हुआ था। 
 
दो मरीजों की जांच हुई-
इस मरीज को नाम दिया गया था ईसी2। 26 अगस्त को साइंस मैगजीन नेचर में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार इस मरीज के शरीर में एचआईवी के सक्रिय वायरस नहीं है। इसका मतलब यह है कि एचआईवी से संक्रमित हुआ और खुद-ब-खुद ठीक भी हो गया। एक दूसरे आदमी की भी जांच की गई। इसका नाम ईसी1 है। इसके शरीर की 100 करोड़ कोशिकाओं की जांच की गई तो इसके शरीर में सिर्फ एक सक्रिय वायरस पाया गया, लेकिन वह भी जेनेटिकली निष्क्रिय है। यानी इन दोनों इंसानों के शरीर का जेनेटिक्स ऐसा है जिसकी वजह से ये दोनों एचआईवी की सक्रियता को खत्म कर दे रहे हैं। 
 
एलीट कंट्रोलर्स नाम दिया- 
इतनी जांच के बाद वैज्ञानिकों ने इन दोनों को एलीट कंट्रोलर्स का नाम दिया है। एलीट कंट्रोलर्स का मतलब होता है कि वो लोग जिनके शरीर में एचआईवी है, लेकिन पूरी तरह निष्क्रिय या फिर इतनी कम मात्रा में जिसे किसी दवा के बगैर ठीक किया जा सकता है। इन लोगों के शरीर में एचआईवी के लक्षणों या उससे होने वाले नुकसान भी नहीं देखे गए।

दुनिया में 3.50 करोड़ मरीज- 
कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में एचआईवी पर शोध करने वाले सत्या दांडेकर ने कहा कि यह कुछ महीनों या सालों की बात नहीं दिखती। यह बहुत ज्यादा समय में विकसित होने वाला इम्यून सिस्टम दिख रहा है। दुनिया के 3.50 करोड़ लोग इससे संक्रमित हैं। इनमें 99.50 फीसदी ऐसे मरीज हैं जिन्हें हर रोज एंटीरेट्रोवायरल दवा लेनी पड़ती है। बिना दवा के इस बीमारी पर नियंत्रण लगभग असंभव है। 

कमजोर वायरस- 
वैज्ञानिक ये भी मान रहे हैं कि शायद इन दोनों इंसानों के शरीर में एचआईवी का कमजोर वायरस हो। वैज्ञानिक ने 64 एलीट कंट्रोलर्स के शरीर पर एचआईवी संक्रमण का अध्ययन किया। इनमें से 41 लोग ऐसे थे, जो एंटीरेट्रोवायरल दवा ले रहे थे, लेकिन मरीज ईसी2 ने कोई दवा नहीं ली और उसके शरीर में एचआईवी पूरी तरह से निष्क्रिय है।

Share This Post