Potato
आम मुद्दे

सरकार ने भूटान से आलू इम्पोर्ट को दी मंजूरी, फेस्टिवल में घटेगी कीमत

सरकार ने आलू (Potato) के बढ़ते दाम को थामने के लिए बड़ा फैसला लिया है. सरकार ने भूटान से आलू के इम्पोर्ट (Import of Potato from Bhutan) पर लगी रोक हटा ली है. इस फैसले से देश में भूटान से अगले कुछ दिनों में ही 30,000 टन आलू भारत आ जाएगा. इससे फेस्टिवल सीजन में आलू की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी पर ब्रेक लग सकेगा. सरकार ने इम्पोर्ट की यह मंजूरी 31 जनवरी 2021 तक के लिए दी है.

उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने आज कहा कि आलू के खुदरा मूल्य पर लगाम लगाने के लिये 10 लाख टन इस सब्जी का आयात किया जा रहा है. 30 हजार टन का इम्पोर्ट इसी का हिस्सा है. आलू के खुदरा की कीमत की बात करें तो यह देशभर में पिछले कुछ ही समय में भारी तेजी आई है.  

केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि 10 लाख टन आलू के इम्पोर्ट के लिये सीमा शुल्क जनवरी 2021 तक कम कर 10 प्रतिशत कर दिया गया है. गोयल ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आलू की कीमत बढ़ रही है और अखिल भारतीय औसत खुदरा मूल्य 42 रुपये किलो पर पिछले तीनों दिनों से स्थिर बना हुआ है.

गोयल ने कहा कि सरकार ने आलू के आयात के लिये कदम उठाए हैं. उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि आलू, प्याज और दूसरी जरूरी चीजें त्योहारों के दौरान सस्ती दरों पर मिले.

केंद्रीय कृषि मंत्रालय की तरफ से जारी दूसरे एडवांस पैदावार के आंकड़ों के मुताबिक, वर्ष 2019-20 के दौरान देश में आलू की पैदावार 513 लाख टन हुआ, जबकि एक साल पहले 2018-19 में देश में आलू की पैदावार 501.90 लाख टन दर्ज किया गया था. बीते फसल वर्ष में आलू की पैदावार ज्यादा होने के बाद भी आलू के दाम में इस साल तेज बढ़ोतरी हुई है.

Share This Post