बिज़नेस

बिना प्रदूषण प्रमाणपत्र के नहीं होगा गाड़ी का बीमा रिन्यू

अगर आप अपनी गाड़ी का बीमा नवीनीकरण कराने जा रहे हैं तो प्रदूषण प्रमाणपत्र के बिना यह नहीं होगा। बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) ने जनरल बीमा कंपनियों को गाड़ी का बीमा नवीनीकरण कराने के समय बीमा धारकों से वैध पीयूसी (पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल) सर्टिफिकेट मांगने को कहा है। इसका साफ मतलब है कि अगर आपके पास यह दस्तावेज नहीं है तो आप गाड़ी का बीमा नवीनीकरण नहीं करवा सकेंगे।

इरडा ने 20 अगस्त 2020 को जारी किए गए एक सर्कुलर में कहा है कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने प्रदूषण के मामले में अनुपालन की स्थिति का मुद्दा उठाया है। साथ ही कंपनियों को निर्देशों का पालन करने के लिए कहा है। इरडा ने कहा है कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली (दिल्ली-एनसीआर) में भारत के सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुपालन की स्थिति के बारे में चिंता जाहिर की है। पीयूसी सर्टिफिकेट वाहनों से पैदा होने वाले प्रदूषण नियंत्रण मानकों को पूरा करने के बारे में बताता है। देश में सभी प्रकार के मोटर वाहनों के लिए प्रदूषण मानक स्तर तय किए जाते हैं। एक बार जब कोई वाहन सफलतापूर्वक पीयूसी जांच में सफल हो जाता है तो वाहन मालिक को एक प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है। 

बीमा का दावा भी नहीं मिलेगा 
बीमा क्षेत्र से जुड़े सूत्रों ने हिन्दुस्तान को बताया कि पीयूसी सर्टिफिकेट नहीं होने पर बीमा धारकों को दावा भी नहीं दिया जाएगा। अगर, गाड़ी दुर्घटना ग्रस्त होती है और बीमा धारक के पास उस समय वैध प्रदूषण प्रमाणपत्र नहीं होगा तो दावा का भुगतान नहीं किया जाएगा।

Share This Post