खेल

IPL 2020: VIVO नहीं होगा आईपीएल का स्पॉन्सर, देशभर में विरोध के बाद बोर्ड ने बदला फैसला

नयी दिल्ली : चाइनीज मोबाइल कंपनी वीवो (VIVO) इस साल होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग को स्पॉन्सर नहीं करेगी. चीन के साथ जारी तनाव के बीच देश में भारी विरोध के कंपनी ने मंगलवार को यह फैसला किया है. हालांकि, इसके बाद 2021 से 2023 तक आयोजित होने वाले आईपीएल (IPL 2020) में वीवो स्पॉन्सर होगा. ऐसा उसके साथ करार है. कल तक वीवो को आईपीएल के स्पॉन्सरशिप से हटाया नहीं गया था. जल्द ही नये स्पॉन्सर की घोषणा की जायेगी.

जून के महीने में लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गये थे. तब से दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है. भारत के कई जगहों पर चीन के खिलाफ प्रदर्शन किये गये और चीनी सामानों का बहिष्कार का निर्णय किया गया. भारत सरकार ने भी 50 से ज्यादा चाइनीज ऐप्स को देश में बैन कर दिया है. कई बड़ी चीनी कंपनियों के टेंडर रद्द कर दिये गये हैं.

वीवो इंडिया ने 2017 में आईपीएल टाइटल प्रायोजन अधिकार 2199 करोड़ रुपये में हासिल किये थे. इससे लीग को हर सीजन में उसे करीब 440 करोड़ रुपये का भुगतान करना था. इस चीनी मोबाइल कंपनी ने सॉफ्ट ड्रिंक वाली दिग्गज कंपनी पेप्सिको को हटाया था, जिसकी 2016 में 396 करोड़ रुपये की डील थी.

आपको बता दें कि आईपीएल गवर्निंग काउंसिल ने जब स्पॉन्सर रिटेन करने की बात कही थी, तो भी सोशल मीडिया पर लोगों ने इस पर जमकर विरोध जताया था. एक यूजर ने लिखा था कि इसके कारण IPL फ्लॉप हो जायेगा. वहीं, विदेश मामलों के जानकार विष्णु प्रकाश ने लिखा, ‘आईपीएल को करोड़ों भारतीय फैंस देखते हैं. हम चीन की ओर से हिंसा भी देख चुके हैं. ऐसे में वीवो को आईपीएल का स्पॉन्सर देखने की अनुमति देंगे?’

विष्णु प्रकाश ने आगे लिखा, ‘पेइचिंग हम सब पर हंसेगा. कौन हमें दुनिया में गंभीरता से लेगा? क्यों भारत का अपमान?’ आईपीएल की संचालन परिषद ने रविवार को सभी प्रायोजकों को बरकरार रखने का फैसला किया था. आईपीएल गवर्निंग काउंसिल ने ‘वर्चुअल’ बैठक में फैसला किया कि टूर्नामेंट 19 सितंबर से 10 नवंबर तक खेला जायेगा.

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा था, ‘मौजूदा वित्तीय कठिन परिस्थितियों को देखते हुए इतने कम समय में बोर्ड के लिए नया प्रायोजक ढूंढना मुश्किल होगा.’ इस बार आईपीएल का आयोजन संयुक्त अरब अमिरात (UAE) में होगा. वहां खिलाड़ियों को कोविड-19 को लेकर स्थानीय प्रोटोकॉल का पालन करना होगा. सभी खिलाड़ियों की हर पांच दिन पर कोरोना जांच होगी.

Share This Post