Corona Vaccine
Coronavirus बिहार

बिहार में कोरोना वैक्‍सीनेशन : जानिए कैसे दी जा रही टीके की डोज

बिहार में कोरोना वैक्‍सीन टीकाकरण की तैयारियां जोरों पर हैं। शुक्रवार को प्रदेश के 38 जिलों में दूसरे चरण का ड्राई रन शुरू हुआ। सभी जिलों में 25-25 लोगों को टीके की डोज दी जा रही है। पटना के पीएमसीएच, एनएमसीएच, पारस और खगौल में टीकाकरण का ड्राई रन किया जा रहा है। 

उम्‍मीद है कि देश में कोरोना टीकाकरण अगले हफ्ते से शुरू होगा। इसके पहले सभी तैयारियों को ठोंक बजाकर ठीक कर लेने के उद्देश्‍य से ड्राई रन (मॉक ड्रिल) किया जा रहा है। भारत सरकार ने कोरोना की दो वैक्‍सीन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रेजेनेका की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को इंमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है। इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि उन्हें कोरोना टीके की पहली खेप जल्द ही मिल सकती है।

इन राज्‍यों को सबसे पहले मिल सकती है वैक्‍सीन

बिहार, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल। अन्‍य 18 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उनके संबंधित सरकारी मेडिकल डिपो से वैक्‍सीन मिलेगी। इनमें अरूणाचल प्रदेश, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, चंडीगढ़, दमन और नागर हवेली, दमन और दीव, गोवा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, लक्षद्वीप, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पुडुचेरी, सिक्किम, त्रिपुरा और उत्तराखंड शामिल हैं। 

कई चरणों में चलेगा टीकाकरण
कोरोना टीकाकरण अलग-अलग चरणों में चलेगा। सबसे पहले देश के करीब एक करोड़ स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को वैक्‍सीन की खुराक दी जाएगी। इसमें सरकारी और प्राइवेट दोनों क्षेत्रों में सेवा देने वाले कर्मचारी शामिल हैं।  स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों को भी अलग-अलग श्रेणियों में बांटा गया है- फ्रंट लाइन, ICDS, नर्स, सुपरवाइजर, मेडिकल ऑफिसर, पारामेडिकल स्टाफ, स्पोर्ट स्टाफ और स्टूडेंट। इसके बाद केंद्र और राज्य सरकार के फ्रंटलाइन कर्मचारियों को टीका लगाया जाएगा। इसके बाद वरिष्‍ठ नागरिकों यानी 60 वर्ष से ऊपर की उम्र के लोगों को टीका लगाया जाएगा। 

Share This Post