बिहार

Bihar Election: चिराग पासवान का बड़ा बयान- कोई दबा दे यह संभव नहीं, जानिए NDA में कहां फंसा है पेंच

Bihar Assembly Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) को लेकर आज एनडीए के लिए अहम दिन है। आज अपराह्न दो बजे से दिल्‍ली में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की अहम बैठक होने रही है। माना जा रहा है कि एनडीए इसके बाद सीटों के बंटवारे की घोषणा कर देगा। इस बीच गठबंधन के तीसरे घटक दल लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के अध्‍यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) को मनाने की कोशिशें लगातार जारी हैं। चिराग से अमित शाह भी बात कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि वे चिराग पासवान झ़ुकने के लिए तैयार नहीं हैं। बुधवार को पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान उन्‍होंने कहा कि कोई अगर एलजेपी को दबाना चाहे तो यह संभव नहीं है। अगर एलजेपी नहीं मानती है और चिराग एनडीए से अलग होने का कोई फैसला भी नहीं करते हैं तो बहुत संभव है कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) एवं जनता दल यूनाइटेड (JDU) केवल अपनी सीटों की घोषणा करें। संभव है कि इसके पहले चिराग अपना स्‍टैंड साफ कर दें।

चिराग ने पार्टी नेताओं से कही ये बात

बुधवार को एलजेपी नेताओं से बातचीत का चिराग का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वे कह रहे हैं कि कोई चाहेगा कि पार्टी का अस्तित्‍व मिटा दें तो यह संभव नहीं है। चिराग ने कहा कि सबसे पहले राष्‍ट्र है, फिर पार्टी है और अंत में व्‍यक्ति है। पार्टी हमारी मां है और कोई इसका अस्तित्‍व मिटाना चाहेगा तो यह संभव नहीं है। सभी लोग हर परिस्थिति के लिए तैयार रहें।

एनडीए में नाराज चल रहे चिराग पासवान

एनडीए में बीजेपी व जेडीयू के बीच सीटों को लेकर फैसला हो चुका है। इसपर केवल औपचारिक मुहिर लगनी शेष है। हालांकि, एनडीए में अभी एलजेपी का पेंच फंसा हुआ है। चिराग पासवान बीते विधानसभा चुनाव में पार्टी को मिली 42 सीटों से कम पर राजी नहीं दिख रहे हैं। उन्‍होंने बात नहीं बनने पर विधानभा की 143 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर रखा है। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के खिलाफ मोर्चा खाेले चिराग ने जेडीयू के खिलाफ प्रत्‍याशी उतारने की भी घोषणा कर दी है। सूत्र बताते हैं कि बीजेपी ने एलजेपी को विधानसभा की 27 तथा विधान परिषद की दो सीटें देने की पेशकश की है। बीजेपी ने उन्‍हें राज्‍य सभा की एक और सीट का भी ऑफर दिया है। उन्‍हें मनाने की कोशिश जारी है। बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) से उनकी कई दौर की बातचीत हो चुकी है।

एनडीए में दबाव की राजनीति कर रही एलजेपी

एलजेपी के कुछ नेताओं ने चिराग को मुख्‍यमंत्री चेहरा बता कर एनडीए में दबाव की राजनीति भी की है। जेडीयू के खिलाफ 143 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा भी दबाव की राजनीति का ही हिस्‍सा है। चिराग अभी झुकने के लिए जैयार नहीं दिख रहे। हालांकि, सूत्र बताते हैं कि चिराग पासवान एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ना जोखिम भरा फैसला लेंगे, इसकी उम्‍मीद कम है। उन्‍होंने समय-समय पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) एवं बीजेपी में आस्‍था भी जताई है।

Share This Post
Kunal Raj
Editor-In-Chief l Software Engineer l Digital Marketer