समस्तीपुर

बिहार लौटे प्रवासी मजदूरों को निशुल्क प्रशिक्षण देगा केवीके

समस्तीपुर । केंद्र सरकार के गरीब कल्याण रोजगार अभियान के अंतर्गत प्रवासी मजदूरों को हुनरमंद बनाया जाएगा। कोविड-19 के कारण घर लौटे प्रवासी मजदूरों को कृषि विज्ञान केंद्रों पर निशुल्क प्रशिक्षण की व्यवस्था की जा रही। विज्ञानी उन्हें प्रशिक्षित कर स्वावलंबी बनाएंगे। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली द्वारा एक पत्र जारी किया गया है, जिसमें बिहार के सभी जिलों में स्थित कृषि विज्ञान केंद्रों पर प्रशिक्षण का आयोजन किया जाएगा। डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के वरीय विज्ञानी सह नोडल पदाधिकारी (केवीके) डॉ. बृजेश शाही ने बताया कि उत्तर बिहार के सभी कृषि विज्ञान केंद्रों पर जुलाई से प्रशिक्षण प्रारंभ होगा। इसके लिए कार्य प्रारंभ हो चुका है। जुलाई से लेकर सितंबर तक 16 प्रशिक्षण दिए जाएंगे। महीने में चार प्रशिक्षण भिन्न-भिन्न विषयों पर आधारित होंगे। निबंधन कराना होगा जरूरी

डॉ. शाही ने बताया कि सभी जिलों में स्थित कृषि विज्ञान केंद्रों पर प्रवासी मजदूरों को निबंधन कराना होगा। प्रथम सत्र में प्रत्येक जिले से 560 प्रशिक्षणार्थियों का निबंधन करना है। निबंधन के उपरांत जुलाई से लेकर सितंबर तक कृषि से जुड़े पशुपालन, बकरीपालन, मशरूम उत्पादन, मछली उत्पादन, आइएफएस, समेकित कृषि प्रणाली, मृदा प्रशिक्षण, मूल्य संवर्धन, प्रसंस्करण, मधुमक्खी पालन, कृषि मशीनरी, पोषक वाटिका, वर्मी कंपोस्ट उत्पादन, सब्जी उत्पादन पर प्रशिक्षण दिए जाएंगे। इससे लाभान्वित लोग अपना रोजगार सृजन कर रोजगारोन्मुखी बन सकेंगे।

Share This Post