बिहार

बिहार में लॉकडाउन-4, जानिए 2 जून से क्या खुलेंगे और क्या रहेगा बंद

राज्य में सभी तरह की दुकानें और प्रतिष्ठान दो जून से खुलेंगे। कुछ अतिरिक्त छूट के साथ पांच मई से लागू लॉकडाउन को आठ जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है। लॉकडाउन-4 में सुबह छह से दिन के दो बजे तक दुकानें खोलने की अनुमति दी गई है। हालांकि आवश्यक वस्तुओं, खाद्य सामग्रियों और कृषि से संबंधित दुकानें ही प्रतिदिन खुलेंगी। इनमें राशन, फल-सब्जी, मांस, मछली, दूध, पीडीएस, बीज, खाद, कीटनाशक, कृषि यंत्रों की दुकानें शामिल हैं। वहीं, अन्य प्रकार की दुकानें एक दिन के अंतराल पर खुलेंगी। इनमें से कौन से समूह की दुकानें किस दिन खुलेंगी, यह संबंधित जिलाधिकारी तय करेंगे। शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानें खोलने का समय अब एक ही रहेगा। स्वास्थ्य से जुड़ी दुकानें व प्रतिष्ठान पूर्ववत खुले रहेंगे। अन्य प्रतिबंधों को यथावत रखा गया है। 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को मंत्रियों और पदाधिकारियों से विचार-विमर्श करने के बाद लॉकडाउन बढ़ाने का निर्णय लिया,  जिसकी जानकारी उन्होंने स्वयं ट्वीट कर दी। इसके बाद आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में लॉकडउन-4 में प्रतिबंधों पर निर्णय हुआ और गृह विभाग द्वारा इसका आदेश भी जारी कर दिया गया। बाद में मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण, डीजीपी एसके सिंघल और गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने लॉकडाउन-4 के दौरान दी जाने वाली अतिरिक्त छूट की जानकारी ऑनलाइन प्रेस कांफ्रेंस में दी। 

इस बाबत गृह विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि चार सप्ताह तक लगाए गए प्रतिबंधों के बाद कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने में सफलता मिली है, परन्तु वर्तमान स्थिति में पाबंदियों को पूरी तरह से हटाना घातक हो सकता है। इसलिए व्यक्तियों-वाहनों के आवागमन, दुकानों-प्रतिष्ठानों को खोलने तथा सामाजिक एवं अन्य कार्यक्रमों-समागम के संबंध में लगाए गए प्रतिबंधों को धीरे-धीरे शिथिल किया जाएगा। 

शर्तों का पालन नहीं करने वाले दुकानों पर होगी कानूनी कार्रवाई 
गृह विभाग के आदेश में साफ किया गया है कि दुकानों-प्रतिष्ठानों को कुछ शर्तों के साथ खोलने की इजाजत दी गई है। शर्तों का पालन नहीं करने पर इन्हें अस्थायी तौर पर जिला प्रशासन द्वारा बंद कर दिया जाएगा। साथ ही दुकान मालिकों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। दुकानों-प्रतिष्ठानों में सभी के लिए हमेशा मास्क पहनना अनिवार्य होगा। काउंटर पर दुकानदार द्वारा कर्मियों एवं आगंतुकों के उपयोग के लिए सैनिटाइजर की व्यवस्था अनिवार्य रूप से की जाएगी। दुकानों के परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग मानकों का पालन किया जाएगा, जिसके लिए सफेद गोलाकार चिह्न बनाए जाएंगे। 

25 % उपस्थिति के साथ सरकारी कार्यालय खुलेंगे, निजी बंद रहेंगे 
लॉकडाउन-4 के दौरान सभी सरकारी कार्यालय 25  प्रतिशत उपस्थिति के साथ शाम चार बजे तक खुल सकेंगे। निजी दफ्तरों को खोलने की इजाजत अभी नहीं दी गई है। मालूम हो कि लॉकडाउन-3 तक सभी सरकारी और गैर सरकारी कार्यालयों को बंद कर दिया गया था। लॉकडाउन-3 तक सिर्फ आवश्यक सेवाओं से जुड़े कार्यालयों को खोलने की इजाजत थी।  

धार्मिक स्थल, शिक्षण संस्थान, मॉल, मार्केट काम्प्लेक्स, जिम और पार्क सब बंद रहेंगे 
गृह विभाग द्वारा जारी आदेश के मुताबिक सभी शैक्षणिक संस्थानें, धार्मिक स्थल समेत शॉपिंग मॉल, पार्क, उद्यान, जिम, सिनेमा हॉल, क्लब, स्वीमिंग पुल, स्टेडियम आदि पूरी तरह बंद रहेंगे। राज्य सरकार के विद्यालय और विश्वविद्यालय द्वारा किसी भी तरह की परीक्षाएं नहीं ली जाएंगी। 

बिना ई-पास नहीं चलेंगे निजी वाहन
वाहनों के परिचालन पर रोक को यथावत रखा गया है। जिला प्रशासन द्वारा जारी ई-पास के बिना निजी वाहन नहीं चलेंगे। मालवाहक वाहनों पर रोक नहीं रहेगी। स्वास्थ्य से जुड़ी गतिविधियों में लगे वाहन तथा स्वास्थ्य प्रयोजन के लिए निजी वाहन चल सकेंगे।  

जिलाधिकारी और अधिक सख्ती कर सकेंगे
जिलाधिकारियों को यह अधिकार दिया है कि वह स्थानीय परिस्थितियों की समीक्षा कर जरूरी समझें तो अपने जिले में प्रतिबंधों को लेकर और अधिक सख्ती कर सकेंगे। पर, किसी भी परिस्थिति में सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों में वे कोई ढील नहीं देंगे। 

शादी और श्राद्ध समारोह में कोई छूट नहीं 
शादी समारोह, दाह संस्कार और श्राद्धकर्म में अधिकतम 20 लोगों के शामिल रहने का निर्देश लॉकडाउन-4  के लिए भी यथावत रखा गया है। इसमें कोई अतिरिक्त छूट नहीं दी गई है। डीजे और बारात में जुलूस की इजाजत नहीं होगी। सार्वजनिक स्थलों पर किसी भी प्रकार के सरकारी और निजी आयोजन पर रोक रहेगी। 

पाबंदियां

– सार्वजनिक स्थानों और मार्गों पर अनावश्यक आवागमन (पैदल सहित) पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा
– रेस्टोरेंट एवं खाने की दुकानें बंद रहेंगी ( इनका संचालन केवल होम डिलेवरी के लिए प्रात: 9 बजे से रात के 9 बजे तक हो सकता है)
– आवश्यक सेवाओं को छोड़ अन्य प्रकार के वाहनों का परिचालन बंद रहेगा
– छूट के दायरे में शामिल वाहनों को छोड़ यदि नियम का उल्लंघन कर वाहन चलाया जाता है तो मोटरवाहन अधिनियम की धारा 179 (1) के तहत जुर्माना किया जाएगा
– सामाजिक, राजनीतिक, मनोरंजन, खेल-कूद, शैक्षणिक, सांस्कृतिक और धार्मिक आयोजनों पर प्रतिबंध रहेगा 

सहुलियतें 

– सरकार द्वारा संचालित कोविड अस्पतालों, कोविड केयर सेंटर और डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटरों पर मरीज के अटेंडेंट के खाने के लिए सामुदायिक किचेन जिला प्रशासन के माध्यम से चलाएं जाएंगे 
– कोल्ड स्टोरेज और वेयर हाउसिंग की सेवाएं जारी रहेंगी
– निजी सुक्षा सेवाओं पर भी रोक नहीं होगी
– ठेले पर फल-सब्जी घूम-घूमकर बेचे जा सकते हैं
– पब्लिक ट्रांसपोर्ट के वाहन 50 प्रतिशत क्षमता के साथ चालू रहेंगे
– सभी प्रकार के मालवाहक वाहनों का परिचालन जारी रहेगा
– हवाई या रेल यात्री के यात्रा के लिए निजी वाहनों का परिचालन होगा (यात्री के पास टिकट होना चाहिए)
– बैंकिंग, बीमा, एटीएम संचालन, गैर बैकिंग वित्तीय कंपनियों के कार्यालय खुले रहेंगे
– औद्योगिक एवं विनिर्माण कार्य से संबंधित प्रतिष्ठानों में काम होगा
– सभी प्रकार के निर्माण कार्य जारी रहेंगे
– ई-कॉमर्स से जुड़ी गतिविधियां भी होंगी
– कृषि एवं इससे जुड़े कार्य पर रोक नहीं
– प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का काम होगा

Share This Post