समस्तीपुर

विभूतिपुर में सीएसपी संचालक से 1 लाख 64 हजार रुपये की लूट

समस्तीपुर । विभूतिपुर में भारतीय स्टेट बैंक ग्राहक सेवा केंद्र कापन के संचालक से सोमवार को 1 लाख 64 हजार रुपये लूट कर भाग रहे दो अपराधियों को ग्रामीणों के सहयोग से पुलिस ने घेराबंदी कर दबोचने में सफलता पाई है। जबकि अन्य अपराधी चकमा देकर भागने में सफल रहे। ग्रामीणों द्वारा घेराबंदी के क्रम में अपराधियों की धुनाई में पुलिस के हस्तक्षेप से नाराज लोगों ने पुलिस बल पर भी हमला बोला। जिसमें पुलिस लिखी वाहन के पिछले हिस्से का कांच टूटने की बातें बताई गई है। पुलिस ने अपराधी को किसी तरह अपने कब्जे में लेकर भीड़ से निकालने में सफलता पाई। पुलिस अभिरक्षा में उसका इलाज स्थानीय सीएचसी में करवाया गया। पुलिस सूत्रों की मानें तो अपराधियों की पिटाई की मंशा रखने वाले लोगों द्वारा पुलिस के साथ धक्का-मुक्की और वाहन को क्षतिग्रस्त करने में कुछ शराब तस्करों का हाथ है। जिसकी पहचान कर ली गई है। वहीं पुलिस गिरफ्त में आए अपराधियों में एक मिश्रौलिया गांव निवासी सोनेलाल सिंह का पुत्र अमरजीत कुमार उर्फ किलर और खोकसाहा गांव निवासी शंकर महतो का पुत्र चंदन कुमार बताया गया है। घटना के संबंध में बताया जाता है कि सीएसपी संचालक रविन्द्र कुमार भारतीय स्टेट बैंक शाखा विभूतिपुर से राशि की निकासी कर कापन सीएसपी के लिए लौट रहा था। नरहन-खोकसाहा के बीच रास्ते में कबीर चौक मानाराय टोल के समीप अपाचे सवार अपराधियों ने संचालक को पिस्तौल का भय दिखाकर राशि से भरा बैग लूट कर भाग निकला। पीड़ित ने शोर मचाते हुए तत्काल घटना की सूचना पुलिस को दी। दिवा गश्ती में निकली पुलिस भी अपराधी का पीछा करना शुरू किया। पुलिस की सूचना पर ग्रामीणों ने भी रास्ते को जगह-जगह नाकेबंदी कर दी। पुलिस वाहन को देख खदियाही चौक के समीप मंदिर के निकट अपाचे बाइक छोड़कर अपराधी चौर के रास्ते भागना शुरू कर दिया। ग्रामीणों एवं पुलिस ने पीछा कर दो अपराधी को पकड़ लिया। जबकि अन्य अपराधी मौके से फरार हो गया। घटना की सूचना पर थानाध्यक्ष कृष्णचंद्र भारती, एसआई विषद विश्वास पहुंचे। जिन्हें ग्रामीणों के आक्रोश का सामना करना पड़ा। इधर, रोसड़ा डीएसपी सहरियार अख्तर और रोसड़ा थानाध्यक्ष सह इंस्पेक्टर अमित कुमार पीड़ित और अपराधी से सघन पूछताछ करने में जुटे रहे। पुलिस ने एक अपाचे बाइक बरामद कर ली है। थानाध्यक्ष ने बताया कि बाइक और अपराधियों की पहचान पीड़ित संचालक द्वारा कर ली गई है। शेष अपराधियों की गिरफ्तारी और लूट की राशि की बरामदगी को लेकर पुलिस सघन छापामारी कर रही है।

Share This Post