समस्तीपुर

मुक्तापुर रामेश्वर जूट मिल फिर चालू, मंत्री महेश्वर हजारी ने भोंपू बजाकर किया शुभांरभ

समस्तीपुर । उत्तर बिहार की इकलौती रामेश्वर जूट मिल मुक्तापुर करीब तीन साल बाद रविवार से फिर चालू हो गई। योजना विकास एवं उद्योग मंत्री महेश्वर हजारी ने भोंपू बजाकर शुभांरभ किया। मिल खुलने से करीब 37 सौ श्रमिकों को फिर काम मिल गया। सभी खुश थे। 15 दिनों में शुरू होगा उत्पादन :

मंत्री महेश्वर हजारी ने कहा कि मिल प्रबंधन का राज्य सरकार पर बकाया था। राज्य सरकार ने मिल संचालन के लिए 26 करोड़ 60 लाख रुपये अनुदान दिया है। मिल पर बिजली विभाग का 90 लाख रुपये बकाया था। प्रथम चरण में 28 लाख का भुगतान करना है। शेष राशि देने के लिए आसान किस्त बनाई गई है। 15 दिनों के भीतर उत्पादन शुरू हो जाएगा। मिल खुलने से करीब पांच हजार परिवारों को लाभ मिला। 37 सौ श्रमिकों को फिर रोजगार मिल गया। प्रबंधन द्वारा अवकाश प्राप्त श्रमिकों के पीएफ के बकाए का भुगतान सिलसिलेवार तरीके से किया जाएगा। इससे पूर्व विधिवत पूजा पाठ के बाद 11 वीं बार जूट मिल का सायरन बजा। मिल के निदेशक त्रिलोकीनाथ सिंह, गजेंद्र सिंह ने मंत्री महेश्वर हजारी, डीएम शशांक शुभंकर, एसडीओ रवींद्र कुमार दिवाकर, एसडीपीओ प्रीतिश कुमार का स्वागत किया। श्रमिकों ने खुशी से लगाए नारे : मान्यता प्राप्त मजदूर यूनियन के अध्यक्ष नौशाद आलम और महामंत्री अमरनाथ सिंह ने मिल परिसर मैदान में शारीरिक दूरी का पालन करते हुए सभा की। कहा कि मिल प्रबंधन के साथ तय एकरारनामा के अनुसार ही काम करना है। एकरारनामा पढ़कर सुनाया गया। इसके बाद श्रमिकों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और मंत्री महेश्वर हजारी के समर्थन में नारे लगाए।

गौरतलब है कि 90 साल पुरानी रामेश्वर मिल 6 जुलाई 2017 से बंद थी। सूबे के योजना एवं विकास उद्योग मंत्री महेश्वर हजारी के प्रयास से मिल फिर चालू हो गई। अब जूट से बोरे का उत्पादन होगा।

Share This Post