police/samachar9
बिहार

नीतीश सरकार ने जारी किए 54 लाख रुपये, अब आग लगे या भूकंप, सुरक्षित रहेगा बिहार पुलिस का डिजिटल डाटा

क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क सिस्टम (सीसीटीएनएस) से जुड़े बिहार पुलिस का तमाम डाटा भुवनेश्वर में सुरक्षित रहेगा। किसी भी परिस्थिति में डिजिटल डाटा को सुरक्षित रखा जा सके, इसके लिए भुवनेश्वर में डिजास्टर रिकवरी सेंटर स्थापित किया जा रहा है। जल्द ही यह काम शुरू कर देगा। रिकवरी सेंटर पर होने वाले सालाना खर्च के लिए बिहार सरकार ने 54 लाख रुपए भी जारी कर दिए।

स्टेट सेंटर से डाटा नष्ट हुआ तो भी दिक्कत नहीं
सीसीटीएनएस से जुड़ने के बाद पुलिस से जुड़ा सभी तरह का डाटा डिजिटल फॉर्म में सर्वर पर मौजूद रहेगा। लिहाजा डाटा को सुरक्षित रखना बड़ी चुनौती है। इसे सुरक्षित रखने के लिए दो स्तर पर प्रबंध किए गए हैं। पहला राज्य स्तर पर पटना में स्टेट डाटा सेंटर बनाया गया है। पर किसी कारण इसके सर्वर खराब हो जाते हैं तो डाटा को रिकवर नहीं किया जा सकता। यही वजह है कि बिहार से जुड़े सीसीटीएनएस के डाटा को नेशनल डाटा सेंटर में भी सुरक्षित रखा जाएगा। यह सिर्फ बिहार ही नहीं बल्कि सभी राज्यों के लिए है। 

देश के चार शहरों में नेशनल डाटा सेंटर 
दिल्ली, पुणे, हैदराबाद और भुवनेश्वर में नेशनल डाटा सेंटर स्थापित है। ऐसे में इन्हीं चार शहरों में किसी एक शहर में बिहार के डाटा को रखा जा सकता है। नजदीक होने के चलते भुवनेश्वर का चयन किया गया है। नेशनल डाटा सेंटर से जुड़ने के बाद बिहार पुलिस सीसीटीएनएस प्रोजेक्ट के तहत अन्य राज्यों की पुलिस से जुड़ जाएगी। साथ ही इंटर ऑपरेबल क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम (आईसीजेएस) के तहत पुलिस, अदालत, अभियोजन और जेल के डाटा भी एक-दूसरे को भेजे जा सकते हैं। 

डिजिटल डाटा को दो जगहों पर रखा जाता है
सीसीटीएनएस ही नहीं तमाम तरह के आईटी प्रोजेक्ट से जुड़े डिजिटल डाटा को दो स्थानों पर सुरक्षित रखा जाता है। प्राकृतिक आपदा हो या फिर दुर्घटना की वजह से सर्वर के नष्ट होने की सूरत में डाटा सुरक्षित रहे इसलिए यह जरूरी है। भुनेश्वर स्थित नेशनल डाटा सेंटर में बिहार के सीसीटीएनएस प्रोजेक्ट से जुड़े डाटा को सुरक्षित रखने के लिए कम्प्यूटर हार्डवेयर से जुड़े सामान लगभग लगा दिए गए हैं। जल्द यह काम करने लगेगा। इसी सेंटर की जगह और रख-रखाव खर्च के लिए राज्य सरकार ने 54,16,200 रुपए जारी किए हैं। 

894 थाना व 380 पुलिस कार्यालय सीसीटीएनएस से जुड़ेंगे
दिसम्बर 2020 तक बिहार के 894 थाना और 380 पुलिस कार्यालयों को सीसीटीएनएस से जोड़ा जाना है। अबतक करीब 400 थाना इससे जुड़ गए हैं। थानों को सीसीटीएनएस के साथ स्थानीय अदालतों से भी कम्प्यूटर नेटवर्क के जरिए जोड़ा जा रहा है।

Share This Post
Kunal Raj
Editor-In-Chief l Software Engineer l Digital Marketer