राजनीति

राम का नाम गले लगाकर बोलें, गला दबाकर नहीं

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में विक्टोरिया मेमोरियल में केंद्र सरकार के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सामने नारेबाजी पर टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि राम का नाम गले लगाकर बोलना चाहिए, नाकि गला दबाकर। मालूम हो कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में ममता बनर्जी के सामने जय श्रीराम की नारे लगाए थे, जिसके बाद वह भड़क उठी थीं। ममता बनर्जी ने भाषण देने से भी इनकार कर दिया था।

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसद नुसरत जहां ने घटना की निंदा की। उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए ट्वीट कर लिखा, ”राम का नाम लगे लगाकर बोलें, नोकि गला दबाकर। मैं स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती समारोह को मनाने के लिए सरकार के कार्यक्रम में राजनीतिक और धार्मिक नारों की जोरदार निंदा करती हूं।” इसके साथ ही, जहां ने शेम और सेव बंगाल फ्रॉम बीजेपी के दो हैशटैग भी इस्तेमाल किए।

वहीं, टीमएसी की एक अन्य सांसद महुआ मोइत्रा ने भी कार्यक्रम में नारेबाजी पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने लोकतंत्र की सभी पवित्रता का पूरी तरह से उल्लंघन किया है। एक आधिकारिक कार्यक्रम में जब तक धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र है, तब तक आप धर्म आधारित नारे नहीं लगा सकते। यह सिर्फ बीजेपी के अशिक्षित लोग हैं, जो इस तरह की बकवास का बचाव कर सकते हैं।

कैलाश विजयवर्गीय बोले- यह कैसी राजनीति?
वहीं, पश्चिम बंगाल में बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने भी ममता बनर्जी के सामने लगे नारों को लेकर टिप्पणी की है। उन्होंने ममता बनर्जी पर ही निशाना साधा है। विजयवर्गीय ने कार्यक्रम में हुई नारेबाजी के वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा है कि जय श्रीराम के नारे से स्वागत, ममताजी अपमान मानती हैं। यह कैसी राजनीति है।” वहीं, नेताजी के परपोते और बीजेपी नेता चंद्र कुमार बोस ने भी कहा कि चाहे आप जय हिंद कहें या फिर जय श्रीराम, मुझे दोनों में कोई भिन्नता नहीं दिखती है। जय श्रीराम कोई ऐसा नारा नहीं है कि जिसमें इस तरह की प्रतिक्रिया दी जाए। बोस ने कहा, ”मुझे लगता है कि सीएम को किसी नारे पर प्रतिकूल प्रतिक्रिया नहीं देनी चाहिए। यह कोई राजनीति करने का दिन नहीं है। यह जश्न मनाने का दिन है, यह भारतीय राष्ट्रीय सेना के सैनिकों और शहीदों को श्रद्धांजलि देने का दिन है।

पीएम मोदी की मौजूदगी में लगाए गए थे नारे
ममता बनर्जी ने शनिवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती मनाने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में तब बोलने से इनकार कर दिया था, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में वहां जय श्री राम के नारे लगाए गए। विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में बनर्जी ने अपना भाषण शुरू नहीं किया था कि उसी समय तभी भीड़ में शामिल कुछ लोगों द्वारा नारा लगाया गया। बनर्जी ने कहा कि ऐसा अपमान अस्वीकार्य है। उन्होंने कहा, ”यह एक सरकारी कार्यक्रम है, कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं। एक गरिमा होनी चाहिए। किसी को लोगों को आमंत्रित करके अपमानित करना शोभा नहीं देता। मैं नहीं बोलूंगी।”

Share This Post