बिहार

बिहार में बच्चों को स्कूल भेजने से अभिभावकों ने किया मना, सरकारी आदेश के बावजूद स्कूल बंद रखेंगे प्रबंधक

कोरोना का डर ऐसा समा गया है कि सरकार के आदेश के बाद भी अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए तैयार नहीं हैं। सरकार द्वारा कोरोना बचाव की गाइडलाइन के साथ स्कूल खोलने की अनुमति दी गयी। इसको लेकर स्कूल प्रशासन द्वारा अभिभावकों से फीडबैक मांगा गया था। ज्यादातर स्कूलों के 95 फीसदी अभिभावकों ने बच्चों को स्कूल भेजने से साफ मना कर दिया है। अब ऐसे में इन स्कूलों के प्रबंधकों ने फिलहाल अपने-अपने स्कूलों को बंद रखने का निर्णय लिया है।

नाट्रेडम व सेंटमाइकल समेत कई स्कूल शामिल
नॉट्रेडम एकेडमी की बात करें तो स्कूल द्वारा अभिभावकों के बीच सर्वे करवाया गया। इसमें 96 फीसदी अभिभावक ने बच्चे को भेजने से मना कर दिया। इसके बाद नॉट्रेडम एकेडमी प्रशासन ने अभी स्कूल बंद रखने का ही निर्णय लिया है। वहीं सेंट माइकल हाई स्कूल की बात करें तो 28 सितंबर से स्कूल नहीं खोले जायेंगे। अभिभावकों से फीडबैक में 95 फीसदी स्कूल को बंद रखने की सलाह दी गयी है। यह स्थिति कई और स्कूलों की है।

पांच से दस फीसदी ही होगी उपस्थिति
जिन स्कूलों ने 28 सितंबर से स्कूल खोलने का निर्णय लिया है। वहां पर भी पांच से दस फीसदी ही छात्रों की उपस्थिति रहेगी। क्योंकि ज्यादातर अभिभावक बच्चें को स्कूल नहीं भेजने का निर्णय लिया है। सेंट जेवियर्स हाई स्कूल के प्राचार्य फादर किस्ट्रू ने बताया कि बहुत कम अभिभावक बच्चे को स्कूल जाने की अनुमति दी है।


कंपार्टमेंटल मूल्यांकन के कारण बंद रहेगा स्कूल
सीबीएसई स्कूल में 29 सितंबर तक कंपार्टमेंटल परीक्षा चल रहा है। इसके बाद कंपार्टमेंटल परीक्षा का मूल्यांकन होगा। डीएवी बीएसईबी के प्राचार्य वीएस ओझा ने बताया कि स्कूल के अधिकतर शिक्षकों को मूल्यांकन में लगाया जा रहा है। ऐसे में डाउट क्लास के लिए स्कूल खोलना संभव नहीं होगा। मूल्यांकन के बाद ही स्कूल खुल सकेंगे।

विधानसभा चुनाव के लिए कई स्कूलों में होंगी गतिविधियां
विधानसभा चुनाव के कारण कई सरकारी स्कूल को 28 सितंबर से नहीं खोला जायेगा, क्योंकि इन स्कूलों में चुनाव की गतिविधियां होंगी। बांकीपुर बालिका उच्च विद्यालय की प्राचार्य मीना कुमारी ने बताया कि चुनाव की तिथि घोषित होते ही स्कूल में चुनाव की गतिविधि शुरू कर दी गयी है। पूरा स्कूल परिसर चुनाव कार्यों में व्यस्त रहता है। ऐसे में छात्राओं को नहीं बुला सकते हैं। वहीं पटना हाई स्कूल परिसर में चुनाव संबंधित कई प्रशिक्षण कार्यक्रम चलेगा। इस कारण यहां पर भी 28 सितंबर से छात्रों को नहीं बुलाया जायेगा। वहीं कई सरकारी स्कूलों को सेनेटाइज किया जा रहा है। ये ऐसे स्कूल हैं जहां पर विधानसभा चुनाव को लेकर गतिविधि नहीं होगी।

Share This Post