बिहार

Bihar: निजी अस्पतालों का रेट तय, ऑक्सीजन सहित आइसोलेशन बेड का रोज 4800 रुपए फीस, गरीब कैसे कराएंगे इलाज

गरीब व्यक्तियों के लिए निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमण का इलाज कराना आसान नहीं होगा। निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित व्यक्ति के इलाज पर रोज खर्च होने वाली राशि का जो निर्धारण किया गया है उसे चुकता करना गरीबों के बूते की बात नहीं। रोज मजदूरी कर ढाई सौ से तीन सौ रुपए कमाने वाले भी महीने में मात्र 7500 से नौ हजार रुपए ही कमा पाते हैं। कोरोना संक्रमण के इस विकराल समय में तो कई की रोजगार ही छूट गई है। इस तरह के लोग निजी अस्पताल में कोरोना संक्रमण के इलाज पर रोज का 4800 रुपए वहन कैसे कर पाएंगे। जो 4800 खर्च करने की हिम्मत नहीं जुटा पाएंगे वैसे लोग रोज 7800 या नौ हजार रुपए इलाज के लिए कैसे खर्च कर पाएंगे बड़ा सवाल बन खड़ा हुआ है। 

स्वास्थ्य विभाग ने निजी अस्पताल में कोरोना संक्रमित व्यक्ति के इलाज पर रोज होने वाले खर्च की जो राशि तय की है, उसके मुताबिक मध्यम बीमार व्यक्ति के लिए सपोर्टिव केयर व ऑक्सीजन सहित आइसोलेशन बेड की हर रोज की फीस राशि 4800 रुपए निर्धारित की गई है। गंभीर बीमार व्यक्ति के लिए बगैर वेंटिलेटर के आईसीयू सुविधा फीस 7800 रुपए निर्धारित की गई है। बहुत ही गंभीर बीमार व्यक्ति के लिए वेंटिलेटर सहित आईसीयू सुविधा फीस राशि नौ हजार तय की गई है। तीनों तरह के निर्धारित फीस में पीपीई किट की दो हजार राशि भी शामिल है।

कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के इलाज के लिए चिन्हित निजी अस्पतालों को अपने सूचना पट्ट पर निर्धारित फीस दर राशि को प्रदर्शित करनी होगी। इसको लेकर असैनिक शल्य चिकित्सक सह मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी ने पत्र जारी किया है। जारी पत्र में कहा है कि हर दिन के मरीजों का ब्यौरा जिला स्वास्थ्य समिति सहरसा को ई मेल से भेजना सुनिश्चित करें। उल्लेखनीय है कि राशि सार्वजनिक होने से इलाज के लिए पहुंचने वाले लोगों और अस्पताल प्रबंधन के बीच फीस राशि को लेकर किसी तरह का चिकचिक नहीं होगा। 

दस निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित का होगा इलाज 
सहरसा के डीएम कौशल कुमार के प्रयास से शहर के दस निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित व्यक्तियों का इलाज होगा। श्रीनारायण मेडिकल संस्थान एंड अस्पताल महावीर नगर भेड़धरी, सूर्या हॉस्पिटल गांधी पथ, लार्ड बुद्धा मेडिकल कोसी मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल, निदान आईसीयू एंड ट्रामा सेंटर पुराना राइस मिल, आयुष नर्सिंग होम नया बाजार, गायत्री नर्सिंग होम रमेश झा रोड, शिवदुर्गा क्लिनिक एंड अस्पताल पुराना राइस मिल, डायबिटिक हार्ट केयर सेंटर नया बाजार, मीणा नर्सिंग होम रमेश झा रोड और आरोग्य मंदिर नया बाजार को कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के इलाज करने की स्वास्थ्य विभाग ने अनुमति दी है।

Share This Post