Rera
बिहार

बिहार में चला रेरा का डंडा, 350 बिल्डरों को नोटिस भेजकर मांगा जवाब, जानें कारण

बिहार के बिल्डरों के बीच उस समय हड़कंप मच गया जब हिसाब न देने वाली कंपनियों को रीयल एस्टेट रेग्युलेशन अथॉरिटी (रेरा) ने नोटिस भेजकर जवाब मांगा। जानकारी के अनुसार, राज्य में 350 ऐसे बिल्डर हैं जिन्होंने रेरा को हिसाब नहीं दिया है। वहीं ऐसी रियल एस्टेट कंपनियों की संख्या 700 है। पटना के अलावा गया, मुजफ्फरपुर और भागलपुर की कंपनियों को नोटिस जारी किया गया है।

वहीं लगभग 300 कंपनियों ने समय पर हिसाब दे दिया है। जबकि 350 से अधिक कंपनियों ने अबतक ऐसा नहीं किया है। इसी वजह से रेरा ने उन्हें नोटिस जारी करके जवाब मांगा है। कंपनियों को 31 मार्च तक हिसाब देना था। अब इन कंपनियों पर रेरा की तरफ से रोजाना एक हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।

कंपनियों को क्या हिसाब देना था
रेरा ने बिल्डरों से बैलेंस शीट, ऑडिट रिपोर्ट, कितना काम पूरा हुआ, ग्राहक को तय समय पर आवास मिलेगा या नहीं, प्रोजेक्ट पर अबतक कितनी राशि खर्च की गई, प्रोजेक्ट पूरा होने में कितने दिन लगेंगे आदि का हिसाब मांगा था। जिसे कंपनियों ने नहीं दिया है। जानकारी के अनुसार, रेरा में ग्राहकों ने शिकायत की थी कि बिल्डर बुकिंग का पैसा लेकर उस राशि को दूसरे प्रोजेक्ट में लगा देते हैं। इससे समय पर काम पूरा नहीं होता है।

ये है रेरा का नियम
रेरा के नियम अनुसार कंपनियों और बिल्डरों को एक ही बैंक खाते का प्रयोग करना होता है। इसके अलावा ग्राहक जिसके लिए पैसा दे रहा है उसका इस्तेमाल उसी में करना चाहिए।

Share This Post