धर्म

क्या है राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, गलती से भी भाई को न बांधें भद्रा नक्षत्र में रक्षासूत्र

Raksha Bandhan 2020 Date and Time, Puja Vidhi, Muhurat, Rashifal: आज रात 08:36 बजे पूर्णिमा तिथि हो जाएगी. कल भाई-बहन का प्रेम का त्योहार रक्षाबंधन मनाया जाएगा. रक्षाबंधन का त्योहार श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है, इस दिन बहनें अपने भाईयों की कलाई पर राखी बांधकर उनके खुशहाल जीवन की कामना करती हैं. भाई भी अपनी बहनों को उनकी रक्षा करने का वचन देते हैं. राखी इस बार 3 अगस्त यानि कल है. खास बात ये है कि इस दिन सावन सोमवार भी है. रक्षाबंधन पर भद्रायोग सुबह 9.30 पर ही समाप्त हो जाएगा, जिससे पूरे दिन राखी बांधने का समय रहेगा.

रक्षाबंधन के मौके पर बहनों को बड़ी राहत

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने रक्षाबंधन के मौके पर बहनों को बड़ी राहत दी है. महिलाएं सोमवार को राज्य परिवहन की सभी बसों में मुफ्त में यात्रा कर सकेंगी. इसके अलावा राखी और मिठाई की दुकानों को भी सरकार ने खोलने का फैसला लिया है.

सावन के आखिरी सोमवार को है राखी

भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार 3 अगस्त यानि कल मनाया जाएगा, इसी दिन सावन का आखिरी सोमवार भी है, जिसकी वजह से रक्षाबंधन का महत्व और बढ़ गया है. रक्षाबंधन का त्योहार सावन माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है. ये रक्षाबंधन बहुत खास होने वाला है क्योंकि इस दिन ग्रह-नक्षत्रों के अद्भुत संयोग बन रहे हैं.

भद्रा में नहीं बांधनी चाहिए राखी

कल रखी का त्योहार है. राखी शुभ मुहूर्त में बांधनी चाहिए. राखी बांधने के समय भद्रा नहीं होनी चाहिए. कहते हैं कि रावण की बहन ने उसे भद्रा काल में ही राखी बांध दी थी, इसलिए रावण का विनाश हो गया.

इस मंत्र का जाप कर बांधें राखी

भाई को तिलक और राखी बांधते समय बहनों को ‘येन बद्धो बलिराजा, दानवेन्द्रो महाबलः तेनत्वाम प्रति बद्धनामि रक्षे, माचल-माचलः’ मंत्र का जापकर शुभ माना गया है. कहा जाता हैं कि इससे विशेष फल की प्राप्ति होती है.

राखी बांधने के लिए दो चरणों में है शुभ मुहूर्त

सावन पूर्णिमा की तिथि दो अगस्त को रात्रि 8. 43 बजे शुरू होगी, इसके आरंभकाल से तीन अगस्त की सुबह 9.28 बजे तक भद्रा रहेगी. भद्रा समाप्ति के बाद राखी बांधी जा सकती है. वैसे तीन अगस्त को राखी बांधने के लिए दो चरणों में शुभ मुहूर्त मिलेंगे. पहला दोपहर में 1.35 बजे से शाम 4. 35 बजे तक है, इसके बाद शाम 7.30 बजे से रात 9.30 बजे के बीच बहुत अच्छा मुहूर्त है.

Share This Post