Saat Nischay Yojna
बिहार

Saat Nishchay Yojana Ranking: बिहार में जहानाबाद पहले तो नालंदा दूसरे स्थान पर, जानें अन्य जिलों का हाल

सात निश्चय योजना की समीक्षा के बाद विभाग ने अक्टूबर माह की रैंकिंग जारी की है। बिहार की रैंकिंग में जहानाबाद पहले, नालंदा दूसरे और शिवहर तीसरे पायदान पर है। भागलपुर की रैंकिंग तो सुधरी है, लेकिन अभी भी जिला सूबे में 26वें स्थान पर है। अक्टूबर महीने में जिला एक पायदान ऊपर चढ़ा है। शहरी क्षेत्र में जलापूर्ति व्यवस्था की धीमी रफ्तार ने जिले की रैंकिंग पर ब्रेक लगा दिया है। पूर्वी बिहार, कोसी और सीमांचल के जिलों में जमुई की रैंकिंग सबसे बेहतर है। 

इसके पहले भागलपुर 27वें स्थान पर था। पूर्वी बिहार, कोसी और सीमांचल में चार जिले भागलपुर से आगे हैं। जमुई 14वीं रैंक पर है। लखीसराय 15वें, बांका 19वें और मुंगेर 24वें पायदान पर है। रिपोर्ट के अनुसार शहरी क्षेत्र में हर घर नल का जल योजना मात्र 63.7 प्रतिशत ही पूर्ण हो पाया है। जबकि ग्रामीण क्षेत्र में 95.1 प्रतिशत काम हुआ है। शहरी क्षेत्र में घरों में नल का पानी नहीं पहुंच रहा है। अभी बोरिंग और पाइप बिछाने का काम भी पूरा नहीं हुआ है। 

ग्रामीण क्षेत्रों में भी पीएचईडी द्वारा कई क्षेत्रों में पेयजल योजना को पूर्ण नहीं किया गया है। गली-नाली पक्कीरण योजना में शहरी क्षेत्र में 86.1 और ग्रामीण क्षेत्र में शत प्रतिशत काम पूर्ण हुआ है। शौचालय निर्माण में शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में शत प्रतिशत काम हुआ है। जिले में स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड, स्वयं सहायता भत्ता और कौशल विकास योजना में 71 से 76 प्रतिशत तक काम हुआ है। जिले में सभी योजनाओं को मिलाकार काम का औसत 87.10 प्रतिशत है। 

आसपास के जिलों की रैंकिंग
खगड़िया (31), सुपौल (32), मधेपुरा (33), कटिहार (34), पूर्णिया (35), किशनगंज (36), सहरसा (37) और अररिया जिला सबसे अंतिम 38वें पायदान पर है। 

शहरी क्षेत्र में जलापूर्ति की प्रगति कम होने के चलते रैंकिंग में भागलपुर पीछे है। मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर काम हुआ है। शहरी क्षेत्र में जलापूर्ति का काम बुडको को दिया गया है। उसके द्वारा अभी काम शुरू नहीं किया गया है। टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। शहरी क्षेत्र में जलापूर्ति का काम पूरा होने पर रैंकिंग में बहुत सुधार हो जाएगा। अन्य क्षेत्रों में जिले में बेहतर काम हुआ है। 
– प्रणव कुमार, डीएम, भागलपुर

Share This Post