मुजफ्फरपुर

मुजफ्फरपुर में सात नकाबपोशों ने चहारदीवारी फांद व्यवसायी के घर घुस डाला डाका, बेटी को अगवा कर ले गए

शहर के सदर थाने के दीघरा रामपुर साह गांव में गुरुवार की मध्य रात्रि एक व्यवसायी के घर पर नकाबपोश डकैतों ने धावा बोल दिया। सात डकैत पीछे से चहारदीवारी फांदकर अंदर घुसे। व्यवसायी की पत्नी और बड़ी बेटी को हथियार के बल पर बंधक बना लिया। बक्सा, ट्रंक व अलमारी तोड़कर करीब चार लाख के जेवर, 47 हजार कैश और अन्य कीमती सामान समेत पांच लाख की संपत्ति लूट ली। व्यवसायी की 17 वर्षीया छोटी बेटी को अगवा कर डकैत फरार हो गए। उसकी बहन का मोबाइल भी ले गए।

पत्नी और बेटी के शोर मचाने पर दरवाजे पर कोठरी में सो रहे व्यवसायी की नींद खुली। उन्होंने भी शोर मचाना शुरू किया। इसपर भाग रहे डकैतों ने हाइवे पर दो राउंड फायरिंग की। गांव में डकैती की बात आग की तरफ फैली। सूचना पर सदर पुलिस जांच के लिए पहुंची। हालांकि, मौके से खोखा नहीं मिला। आवेदन देने की बात बोलकर पुलिस वहां से लौट गई। शुक्रवार की सुबह आक्रोशित लोगों ने दीघरा-समस्तीपुर मार्ग पर हाइवे जाम कर दिया। पुलिस पर शिथिलता बरतने का आरोप लगाते हुए बवाल करने लगे। एक बस और एक ट्रक में भीड़ ने तोड़फोड़ भी की। मौके पर पहुंची पुलिस ने आक्रोशितों को समझाने का प्रयास किया गया, लेकिन गुस्साई भीड़ ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की करते हुए खदेड़ दिया। पीछे से कुछ लोगों ने रोड़ेबाजी भी की। पुलिस टीम को जान बचाकर वहां से हटना पड़ा।

पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को खदेड़ा
स्थिति अनियंत्रित होने पर सदर थानेदार संजीव सिंह निराला, काजीमोहम्मदपुर, मिठनपुरा, मनियारी, बेला थानेदारऔर क्यूआरटी मौके पर पहुंची। बोचहां विधायक बेबी कुमारी, सरपंच चंदन कुमार समेत अन्य जनप्रतिनिधि भी मौके पर पहुंच मामला शांत कराने में जुट गए, लेकिन जाम कर रहे लोगों ने उनकी एक नहीं सुनी। एसडीओ पूर्वी डॉ. कुंदन कुमार और नगर डीएसपी रामनरेश पासवान भी पहुंचे। कार्रवाई का आश्वासन दिया गया, पर कोई सुनने को तैयार नहीं हुआ। पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को खदेड़ा।

व्यवसायी के बयान पर एफआईआर
पुलिस के सख्त रवैया अपनाने के बाद सुबह 10.45 बजे जाम खुला। व्यवसायी के बयान पर अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई। पुलिस मोबाइल नंबर का लोकेशन और डिटेल्स खंगालने में जुटी है। अंतिम कॉल रिकार्ड भी निकाला जा रहा है।

अकेली सो रही थी छोटी बेटी
व्यवसायी ने बताया कि दीघरा पेट्रोल पंप के समीप तीन साल से किराना दुकान चलाते हैं। रात को उनकी पत्नी और बड़ी बेटी एक कमरे में सो रही थी। वे और उनका बेटा बाहर कोठरी में थे और छोटी बेटी अकेले एक कमरे में सो रही थी। रात 12.30 बजे पीछे से चहारदीवारी फांदकर एक डकैत भीतर घुसा। उसने पीछे वाला दरवाजा खोल दिया। इस रास्ते से सभी डकैत आए। आहट सुनने पर उनकी पत्नी और बड़ी बेटी बाहर निकली। तभी दोनों को कब्जे में लेकर बंधक बना लिया। लूटपाट करने के दौरान छोटी बेटी की नींद खुली तो वह भी बाहर निकली। उसे भी कब्जे में लिया और लूपाट करने के बाद उसे अगवा कर फरार हो गए।
पुलिस सभी बिंदुओं पर छानबीन कर रही है। स्थिति नियंत्रण में है। मोबाइल कॉल डिटेल खंगाली जा रही है। सभी संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है।

-रामनरेश पासवान, नगर डीएसपी
स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में हैं। लोगों को समझाकर शांत करा दिया गया है। पुलिस अनुसंधान कर रही है। लड़की को जल्द बरामद कर लिया जाएगा।

Share This Post