Coronavirus

सिर्फ अच्छी इम्युनिटी नहीं है समाधान, कोरोना के लिए वैक्सीन जरूरी

विश्व स्तर पर मरीजों की संख्या 30 मिलियन को पार कर जाने वाले कोरोना वायरस रोग (कोविड -19) से निपटने के लिए इम्युनिटी को खासा महत्व दिया जा रहा है। फिर भी, भारत सहित कुछ देशों ने हाल ही में जीनोम अनुक्रमण का उपयोग करके पुन: संक्रमण की पुष्टि की है, यह प्रदर्शित करने के लिए कि दूसरा संक्रमण आनुवांशिक रूप से अलग Sars-CoV-2 वायरस के कारण हुआ। इम्युनिटी अधिकांश लोगों में संक्रमण के लिए प्राकृतिक या अधिग्रहित प्रतिरक्षा होती है। 

भारत में  पिछले 24 घंटों में कोरोना के 92,605 नए मामले सामने आए हैं और 1,133 मौतों के साथ कुल संक्रमितों का आंकड़ा 54 लाख पार कर गया है। कुल 54,00,620 मामलों में 10,10,824  सक्रिय मामले, 43,03,044 ठीक हो चुके और  86,752 मौत शामिल हैं। देश में कोरोना के लिए 19 सितंबर तक 6,36,61,060 सैंपल्स का टेस्ट किया गया। इनमें से कल 12,06,806 सैंपल्स का टेस्ट किया गया। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने ये जानकारी दी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि कोरोना रोगियों के ठीक होने के मामले में देश ने अमेरिका को पीछे छोड़ दिया है। इसी के साथ भारत में कोरोना से ठीक होने वाले कोरोना मरीजों की संख्या दुनिया में सर्वाधिक हो गई है। देश में अब तक 42,08,431 कोरोना रोगी स्वस्थ हो चुके हैं, जबकि अमेरिका में यह संख्या 41,92,774 है। भारत में दुनियाभर में संक्रमण से स्वस्थ हुए लोगों की करीब 19 प्रतिशत संख्या है। 

देश में संक्रमण से स्वस्थ होने की दर करीब 80 प्रतिशत है, जबकि कोरोना मृत्युदर घटकर 1.61 प्रतिशत रह गई है। कोरोना से ठीक होने की राष्ट्रीय दर 79.28 प्रतिशत है। मंत्रालय ने कहा कि एक दिन में स्वस्थ होने वाले मामलों में से करीब 60 फीसद मामले पांच राज्यों- महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक तथा उत्तर प्रदेश से आए हैं। इन्हीं पांच राज्यों में संक्रमण के सर्वाधिक मामले भी आए हैँ। महाराष्ट्र में एक दिन में 22 हजार से अधिक लोग (23 प्रतिशत) स्वस्थ हुए, तो आंध्र प्रदेश में यह संख्या 11,000 (12.3 प्रतिशत) है।  ठीक होने के 90 प्रतिशत मामले 15 राज्यों तथा एक केंद्र शासित प्रदेश से हैं।

Share This Post
Kunal Raj
Editor-In-Chief l Software Engineer l Digital Marketer