बिहार

मुंगेर पुलिस फायरिंग केस में एसपी लिपि सिंह की मुश्किलें बढ़ेंगी या कम होंगी!, हाई कोर्ट का आदेश सुरक्षित

बिहार के मुंगेर में एन विधानसभा चुनाव के मौके पर तत्कालीन एसपी लिपि सिंह के रहते गत वर्ष मां दुर्गा मूर्ति विसर्जन के दौरान हुई पुलिस फायरिंग में मारे गये बच्चे के पिता की ओर से दायर अर्जी पर पटना हाईकोर्ट ने सुनवाई पूरी कर अपना आदेश सुरक्षित कर लिया। मृतक के पिता ने पूरी घटना की जांच सीबीआई से करने की गुहार हाईकोर्ट से लगाई है। 

शुक्रवार को न्यायमूर्ति राजीव रंजन प्रसाद की एकलपीठ ने मृतक के पिता अमरनाथ पोद्दार की ओर से दायर अर्जी पर सुनवाई की। सुप्रीम कोर्ट से आये वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने कोर्ट को बताया कि सरकार ने मामले को जांच पुलिस से वापस लेकर सीआईडी को दिया था। फिर सीआईडी ने इसके लिए एसआईटी का गठन किया। उन्होंने राज्य सरकार के निष्पक्षता पर सवाल उठाते हुये कहा कि पुलिस फायरिंग में एक निर्दोष बच्चे की जान चली गई लेकिन पुलिस फायरिंग करने से इनकार कर रही है।

उनका कहना था कि मुंगेर के तत्कालीन एसपी लिपि सिंह के निर्देश पर पुलिस ने गोली चलायी थी। लेकिन पुलिस इससे इनकार कर रही है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पटना हाईकोर्ट में अर्जी दायर की गई है। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट को दो माह में सुनवाई पूरी कर फैसला देने को कहा है। वहीं, राज्य सरकार का बचाव करते हुए महाधिवक्ता ललित किशोर तथा अपर महाधिवक्ता अंजनी कुमार एवं सरकारी अधिवक्ता नदीम सिराज ने बहस में भाग लिया। सभी पक्षों की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने अपना आदेश सुरक्षित कर लिया। 

Share This Post