समस्तीपुर

हड़ताली डाटा एंट्री ऑपरेटरों ने डीएचएस के समक्ष किया प्रदर्शन

समस्तीपुर । आउटसोर्सिग डाटा एंट्री ऑपरेटर संघर्ष समिति के बैनरतले शनिवार को सभी हड़ताली ऑपरेटरों ने जिला स्वास्थ्य समिति कार्यालय के मुख्य द्वार पर प्रदर्शन किया। आक्रोशितों ने स्वास्थ्य मंत्री और प्रशासन के विरोध में जमकर नारेबाजी की। हड़तालियों की मुख्य मांगें है कि लगातार सात वर्षो से कार्य कर रहे डाटा एंट्री ऑपरेटरों का कार्य स्वास्थ्य विभाग में लिया जाए। इस दौरान एक सभा हुई। सभा को संबोधित करते हुए महासंघ गोपगुट के जिला मंत्री अजय कुमार ने कहा कि राज्य स्वास्थ्य समिति अपने अधीन समायोजन का काम करायें। बार-बार एनजीओ को बदलना और दोहन शोषण की नीति को छोड़ा जाना चाहिए। महामारी में काम करने वाले कर्मी को एक माह का समतुल्य मानदेय भुगतान किया जाना चाहिए। मार्च से अभी तक का मानदेय अविलंब किया जाएगा। डाटा इंट्री ऑपरेटर का हड़ताल संवैधानिक अधिकार है। इस अधिकार का हनन नहीं होने देंगे। उन्होंने मांगें पूर्ण नहीं होने तक हड़ताल जारी रखने का आह्वान किया। अध्यक्षीय संबोधन में समिति के अध्यक्ष चंदन कुमार ने कहा कि ऑपरेटर लगभग सात वर्ष से लगातार अपनी सेवा उपलब्ध कराते हुए स्वास्थ्य विभाग के संचालन में अपनी अहम भूमिका दे रहे है। इसके एवज में सरकार द्वारा निर्धारित मानदेय में से एजेंसी द्वारा कटौती कर भुगतान किया जा रहा है। बावजूद इसके लगातार शोषण-दोहन को झेलते हुए विभाग अपनी सेवा देने के बावजूद राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक द्वारा नए एनजीओ को काम दिया गया है। जिसके कारण रोजगार पर संकट खड़ा हो गया है। इसको लेकर मांगों का समाधान नहीं होने पर हड़ताल जारी रहेगा। जिसकी सारी जवाबदेही स्वास्थ्य प्रशासन की होगी। मौके पर अमरेंद्र कुमार, विकास कुमार, जितेंद्र कुमार, हरीश चंद्र कुमार, हेमंत कुमार, आदित्य श्रीवास्तव, शेखर कुमार, करिश्मा कुमारी, मोना कुमारी, श्याम कुमार आदि उपस्थित रहे।

Share This Post