Viral News

सुशांत सिंह राजपूत को याद कर रोता रहता है यह बेजुबान, अभी हरियाणा में है एक्‍टर का डाॅग फज

बाॅलीवुड स्‍टार सुशांत राजपूत की मौत के बाद उनके परिजन और लाखों प्रशंसक सदमे में हैं, तो उनका पालतू डाग फज भी अपने मालिक के बिना बेचैनी महसूस कर रहा है। वह आज भी सुशांत की फोटाे या वीडियो देखकर रोने लगता है। उसकी इस हालत को देखकर घर के लोगों की आंखें भी भर आती हैं। सुशांत की मौत के बाद फज कई दिनों तक बीमार रहा तथा उसने खाना-पीना छोड़ दिया था। अब फज को सुशांत के जीजा हरियाणा के आइपीएस अधिकारी ओपी सिंह और उनकी बहन रानी के फरीदाबाद स्थित घर पर ले आया गया है।

मुंबई से सुशांत के जीजा के घर लाया गया, अब भी उदास रहता है फज, फोटो या वीडियो देखकर रोता है

सुशांत का पालतू डॉग फज उनके जीजा व बहन को भी जानता है। अब वह यहां आकर धीरे-धीरे सदमे से उबरने की कोशिश कर रहा है। फज जब मात्र 20 दिन का था, तब सुशांत उसको अपने घर मुंबई लेकर आए थे। अब फज चार साल का है, लेकिन अपने मालिक को अपने बीच न पाकर काफी दुखी रहता है। फज के केयर टेयर सुखराम के अनुसार, जब भी सुशांत सर की फोटो या वीडियो देखता है तो फज रोने लगता है।

सुशांत जब इस दुनिया में नहीं रहे थे, तब फज फ्लैट में नीचे के माले पर था। अगर वह बेजुबान नहीं होता तो सुशांत राजपूत की मौत के रहस्य इतने नहीं गहराते, जितने अब गहरा रहे हैं। सुशांत अक्सर फज को अपने साथ ही रखते थे। कई बार वह फज को तकिये के रूप में इस्तेमाल करते थे और उसे सिर के नीचे दबाकर सो जाते थे। फज सुशांत के दिल के बेहद करीब था। सुशांत की मृत्यु के बाद यह अफवाह भी उड़ी कि सदमे में फज की भी मौत हो गई, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। फज अब बिल्कुल ठीक है और सुशांत की बहन रानी के घर पर मौजूद है।

सुशांत के पिता केके सिंह भी फिलहाल रानी के घर पर फरीदाबाद में ही हैं, जहां मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शनिवार को उनसे मुलाकात की और उन्हें ढांढस बंधाया। फज के केयर टेकर सुखराम का कहना है कि फज अब धीरे-धीरे सदमे से उबरने की कोशिश कर रहा है। उसे खाना और दूध दिया जाता है, लेकिन काफी देर तक वह अपने मालिक यानी सुशांत सर का इंतजार करता है।

केयर टेकर ले बताया कि जब फज को मुंबई से लाए थे, तब वह काफी दिनों तक परेशान रहा। फज अब खाना भी खाने लगा है, लेकिन दिल से नहीं, सिर्फ पेट भरने के लिए। उसकी आंखों में अभी भी सुशांत सिंह राजपूत के आने का इंतजार दिखता है। वह अक्‍सर टकटकी लगाकर दरवाजे की ओर देखता रहता है।

Share This Post