Samachar 9
राष्ट्रीय

जिनके पास खेत पिता या दादा के नाम पर है, उन्हें नहीं मिलेंगे 6000 रुपये, सरकार ने दिया झटका

किसान सम्मान निधि योजना का लाभ उठाने वाले किसानों को सरकार की ओर से करारा झटका लगा है. वैसे खेतिहर किसानों को झटका लगा है, जिनके पास पिता या दादा के नाम पर जमीन है. सरकार की ओर से किसान सम्मान निधि योजना के तहत ऐसे लोगों को 6000 रुपये नहीं मिलेगी.

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों की मदद के लिए किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की थी जिसके तहत किसानों के बैंक अकाउंट में मोदी सरकार हर साल 6000 रुपये जमा करती है. यह पैसे तीन किश्त में खाते में पहुंचते हैं.

पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ लेने के लिए किसान के नाम खेती की जमीन होनी चाहिए. यदि कोई किसान खेती तो कर रहा हो, लेकिन खेत उसके नाम ना होकर उसके पिता या दादा के नाम हो, तो वह किसान इस योजना का लाभार्थी नहीं बन सकता है. इतना ही नहीं अगर कोई व्यक्ति खेती की जमीन का मालिक भी है, लेकिन वह सेवारत या सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी हो,पूर्व सांसद, विधायक या मंत्री हो, या भी इनके परिवार के लोग हों, ये सभी इस योजना के लाभार्थी नहीं बन सकते हैं.

किसान सम्मान निधि योजना को लेकर बनाये गए नियमों के मुताबिक जिन्हें 10,000 रुपये या इससे अधिक पेंशन मिलती है, वे सभी पेंशनर भी इस योजना के लाभार्थी नहीं बन सकते हैं. पेशेवर निकायों के पास रजिस्टर्ड डॉक्टर हो, इंजिनियर हो, वकील हो या चार्टर्ड अकाउंटेंट हो उन्हें भी इसका लाभ नहीं मिलेगा.

किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत पिछले साल फरवरी में हुई थी, लेकिन किसानों को इस योजना का लाभ एक दिसंबर, 2018 से ही मिल रहा है. अब तक किसानों के बैंक खातों में 6 किस्तें आ चुकी हैं. जब से योजना लागू हुई तब से लेकर अब तक किसानों को खातों में 12,000 रुपये ट्रांसफर किए जा चुके हैं. किसान सम्मान निधि योजना के लिए शत-प्रतिशत फंड केंद्र सरकार देती है और इसके तहत लाभार्थी किसानों को सालाना 6,000 रुपये की राशि तीन समान किस्तों में दी जाती है. इस योजना के प्रत्येक लाभार्थी किसान को एक किस्त में 2,000 रुपये दी जाती है.

इसके तहत 2 हेक्टेयर तक भूमि वाले किसान परिवारों को 6,000 रुपये प्रति वर्ष की दर से मदद दी जा रही है. केवल वह किसान ही इस सरकारी किसान सम्मान निधि योजना का लाभ उठा सकते हैं, जिनके पास 2 हेक्टयर या उससे कम जमीन है. इसके तहत ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्र की लिस्ट में शामिल लाभार्थियों को अगले 5 साल तक 6000 रुपये दिए जाएंगे.

इस योजना का लाभ लेने के किसान ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन के लिए किसान सम्मान निधि पोर्टल पर अप्लाई कर सकते हैं. कई बुजुर्ग किसानों का मानना है कि यह योजना कर्ज माफी की योजना से कहीं बेहतर है और वह इसका इस्तेमाल बीज खरीदने, पटवन करने या फिर खाद खरीदने में कर सकते हैं.

Share This Post