मनोरंजन

जब 25 लड़कों से पिटते रहे राजकुमार राव, एक्टर बनने की इतनी थी फिक्र, कहा- ‘चेहरे पर मत मारना’

बॉलीवुड के टैलेंटेड एक्टर्स में से एक राजकुमार राव आज यानी 31 अगस्त को अपना जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं। राजकुमार हमेशा से एक अभिनेता बनना चाहते थे। वह शाहरुख खान के बहुत बड़े फैन हैं। ऐसे में अपने स्कूल के दिनों में उन्होंने ‘राज’ बनने की कोशिश की लेकिन इस वजह से उन्हें लेने के देने पड़ गए। यह सबकुछ उनके स्कूल के दिनों में हुआ जब एक लड़की को देखकर उन्हें लगा कि उनकी ‘अंजलि’ मिल गई।  

शाहरुख की फिल्म का असर

राजकुमार राव ने बताया जब वह 11वीं पढ़ते थे तभी उन्हें बास्केटबॉल खेलती हुई लड़की दिखाई दी जिसे देखकर उन्हें ‘कुछ कुछ होता है‘ की ‘अंजलि’ याद आ गई।  ईआईसी वर्सेस बॉलीवुड के एक एपिसोड में राजकुमार ने बताया था कि ‘मैं गुड़गांव के ब्लू बेल्स स्कूल में था। मैं शाहरुख खान का बहुत बड़ा था, अभी भी हूं। तो मैंने “कुछ कुछ होता है” देखी और मैंने देखा कि एक लड़की बास्केटबॉल खेल रही है। वही बॉल और मेरा रिएक्शन था ‘अंजलि’। और फिर किसी तरह हमने डेटिंग शुरू की लेकिन उसका ब्वॉयफ्रेंड था।‘ 

एक्टर बनने का था ख्याल

राजकुमार कहते हैं कि ‘वह एक जाट लड़का था और फिर वे मेरी पिटाई करने आ गए। उस वक्त मैं एक सीधा-साधा लड़का था। करीब 25 लड़के लॉ कॉलेज से आ गए। मैं ऐसा था कि अब और नहीं लड़ना, बहुत हो गया। मुझे एक एक्टर बनना है। वे मुझे पीट रहे थे, 25 लड़के वहां ऐसे थे कि “बंदूक निकालो, बंदूक निकालो, गोली मारो, बंदूक निकालो”। मैं वहां बैठा था। मेरे दो अच्छे पंजाबी दोस्त ने कहा- “उसे मत मारो, चाहो तो मुझे मारो।“ मैं उस वक्त केवल एक ही चीज चिल्ला रहा था, मेरा यकीन करो, यह सच्ची कहानी है, “मेरे चेहरे पर मत मारो, मैं एक एक्टर बनना चाहता हूं।“ 

मुख्य फिल्में

बता दें कि राजकुमार राव ने साल 2010 में ‘लव सेक्स और धोखा’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। इसके बाद वह ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर 2’, ‘शाहिद’, ‘अलीगढ़’, ‘ट्रैप्ड’, ‘न्यूटन’, ‘बरेली की बर्फी’ और ‘द व्हाइट टाइगर’ सहित अन्य फिल्मों में नजर आए। 

Share This Post