Coronavirus राष्ट्रीय

कोविशील्ड और कोवैक्सीन में कौन कितना असरदार? जानें दोनों वैक्सीन के परीक्षण और कीमत सहित सभी बातें

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने रविवार को दो-दो कोरोना वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी देने की घोषणा कर दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे ‘कोविड मुक्त भारत’ की दिशा में तेजी से आगे बढ़ने में मदद देने वाला बताया। अब उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही भारत में टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। हालांकि फिलहाल प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण किया जाएगा। टीकाकरण को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने इससे पहले ड्राई रन चलाया। 

आज डीजीसीआई ने जिन दो टीकों के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है, उनमें कोविशील्ड और कोवैक्सीन है। दोनों वैक्सीन का परीक्षाण भारत में ही किया गया है। आइए आपको इन दो टीकों के बारे में जरूरी जानकारी देते हैं।

डेवलपर्स और निर्माताओं

कोविशील्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने फार्मा प्रमुख एस्ट्राज़ेनेका के सहयोग से विकसित किया है। भारत का सीरम इंस्टीट्यूट इसके परीक्षण में भागीदार है।

कोरोना के खिलाफ कोवाक्सिन भारत का पहला स्वदेशी टीका है। इसे भारत बायोटेक द्वारा भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के सहयोग से विकसित किया गया है।

टीके कैसे विकसित किए गए हैं?

कोविशील्ड में प्रतिकृति की कमी वाला चिम्पांजी वायरल वेक्टर का उपयोग किया गया है। यह सामान्य सर्दी वायरस (एडेनोवायरस) के कमजोर संस्करण पर आधारित है, जो कि चिम्पांजी में संक्रमण का कारण बनता है। इसमें SARS-CoV-2 वायरस स्पाइक प्रोटीन की आनुवंशिक सामग्री होती है। टीकाकरण के बाद सतही स्पाइक प्रोटीन का उत्पादन होता है, जो कि SARS-CoV-2 पर हमला के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को भड़काता है, अगर यह बाद में शरीर को संक्रमित करता है।

कोवाक्सिन एक निष्क्रिय टीका है। निष्क्रिय टीका जो कि बीमारी का कराण बनने वाले जीवित सूक्ष्मजीवों को निष्क्रिय करने (मारने) से विकसित किया जाता है। यह बीमारी को दोहराने की क्षमता को नष्ट कर देता है। हालांकि यह इसे एक हद तक बरकरार रखता है ताकि प्रतिरक्षा प्रणाली अभी भी इसे पहचान सके और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न कर सके। भारत बायोटेक ने कहा है कि हेपेटाइटिस ए, इन्फ्लुएंजा, पोलियो, रेबीज के खिलाफ कई निष्क्रिय टीके हैं, जो “उत्कृष्ट सुरक्षा” प्रदान करते हैं। 

परीक्षण और प्रभावकारिता

दवा नियंत्रक ने कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने 23,745 से अधिक विदेशी प्रतिभागियों के डेटा का परीक्षण किया, जिसमें 70.42 प्रतिशत प्रभावकारिता थी। साथ ही यह भी कहा कि भारत में आयोजित किए गए दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण में 1,600 प्रतिभागियों ने भाग लिया। इसके परिणाम पहले चरण के परीक्षण के बराबर थे।

भारत बायोटेक ने पहले और दूसरे चरण का परीक्षण 800 प्रतिभागियों पर किया। इसके अलावा कई जानवरों पर भी इसके परीक्षण किए गए। इसका तीसरा परीक्षण चल रहा है। कुल 22,500 प्रतिभागियों ने इसमें भाग लिया। दवा नियंत्रक ने कहा कि टीका प्रभावी और सुरक्षित पाया गया है।

टीके की लागत

भारत के अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों को मुफ्त में टीका मिलेगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है। इसलिए लागत बाद में स्पष्ट हो पाएगी। सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने पहले कहा था कि कोविशिल्ड की कीमत लगभग 400 रुपये होने की संभावना है। भारत बायोटेक के टीके की कीमत 100 रुपये से कम होने की संभावना है। लेकिन लागत पर कोई अंतिम बात नहीं कही जा सकती है।

Share This Post