gandhi setu samachar9
बिहार

बिहार में गंगा पर बनने वाले दो नए पुल राज्य के लिए क्यों हैं जरूरी?, जानिए इनसाइड स्टोरी

बिहार में गंगा नदी पर बनने वाले महात्मा गांधी सेतु के समानांतर और भागलपुर में विक्रमशिला सेतु के समानांतर पुल निर्माण योजना बिहार के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। गांधी सेतु के समानांतर पुल निर्माण से उत्तर और दक्षिण बिहार के बीच आवागमन और सुलभ हो जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को बिहार को 14 हजार 228 करोड़ की सड़क और सेतु परियोजनाओं की सौगात दी थी।

इन सभी योजनाओं से राज्य के दूसरे हिस्सों से राजधानी पटना आने में लगने वाला समय भी घटेगा। अधिकांश परियोजनाओं के लिए विभाग ने जमीन अधिग्रहण पूरा करने का दावा किया है। यह परियोजनाएं आगामी तीन से चार साल में पूरी होंगी। पथ निर्माण विभाग का दावा है कि इन 7 परियोजनाओं का काम पूरा होने पर राज्य के किसी भी हिस्से से लोग पांच घंटे में पटना पहुंच सकेंगे। 

उत्तर से दक्षिण बिहार के बीच आवागमन होगा आसान
उत्तर से दक्षिण बिहार के बीच आवागमन को और सुलभ बनाने के लिए महात्मा गांधी सेतु के समानांतरण एक नए पुल का निर्माण होगा। एप्रोच रोड सहित साढ़े 14 किमी लंबे इस पुल को चार लेन बनाया जाएगा। टेंडर के बाद इसका काम भी अलॉट हो चुका है।

विक्रमशिला के समानातंर पुल
भागलपुर का मौजूदा विक्रमशिला सेतु पर ट्रैफिक का अत्यधिक दबाव है। वो अब इससे अधिक वाहनों का दबाव नहीं झेल पा रहा है। इसी पुल के समानांतर 4.445 किलोमीटर लंबे पुल का निर्माण होगा। इसे चार लेन का बनाया जाएगा। इसके अलावा कोसी नदी में एनएच-106 बीरपुर-बिहपुर में फुलौत में चार लेन के पुल निर्माण की भी प्रधानमंत्री ने नींव रखी। एप्रोच सहित इस पुल की लंबाई 28.93 किमी है। 

झारखंड से बेहतर होगा सड़क संपर्क
झारखंड के रजौली से पटना के बख्तियारपुर के बीच फोर लेन सड़क का निर्माण तीन पैकेज में होगा। इसमें से दो का टेंडर हो चुका है तो एक की डीपीआर बनाई जा रही है। आरा-मोहनिया चार लेन सड़क का निर्माण दो पैकेज में हो रहा है। झारखंड के साहेबगंज से कटिहार मनिहारी को जोड़ने के लिए गंगा पर नए पुल का निर्माण जारी है। जहां यह पुल बिहार की सीमा में गिर रहा है, उसे पूर्णिया में ईस्ट-वेस्ट कॉरिडोर से जोड़ा जा रहा है। इसके लिए 49 किमी लंबी नरेनपुर पूर्णिया चार लेन सड़क बनेगी। 

पटना रिंग रोड से आसान होगा सफर
पटना के अलावा छपरा और वैशाली से होकर गुजरने वाली पटना रिंग रोड परियोजना के एक हिस्से कन्हौली-रामनगर सड़क के निर्माण कार्य का भी शिलान्यास हो गया। दक्षिण से उत्तर बिहार आने-जाने के लिए जिन्हें पटना आने की जरूरत नहीं है, वे पटना रिंग रोड से बाहर-बाहर जा सकेंगे। कन्हौली से रामनगर, कच्ची दरगाह-बिदुपुर पार होते हुए चकसिकंदर, सराय, गंडक में नए पुल से होते हुए दीघवारा-शेरपुर छह लेन नए पुल सड़क होते हुए कन्हौली में समाप्त होगा। आठ एनएच और छह एसएच को जोड़ने वाली रिंग रोड की कुल लंबाई 137.5 किमी और लागत लगभग 15 हजार करोड़ है। परियोजना में जमीन अधिग्रहण के मद में राज्य सरकार 31 सौ करोड़ खर्च करेगी। 

बक्सर से झारखंड सीमा तक होगी फोर लेन सड़क
मुंगेर-मिर्जाचौकी का टेंडर जारी हो गया है। चार पैकेज में बनने वाली इस सड़क के बनने से बक्सर से झारखंड की सीमा तक चार लेन सड़क हो जाएगी। बीच के मोकामा से मुंगेर सड़क के लिए केंद्र से अनुरोध किया गया है। पटना-गया डोभी के लिए भी एजेंसी तय कर दी गई है। 

पीएम ने इन परियोजनाओं का किया शिलान्यास  
-2926.42 करोड़ की लागत से एनएच 19 में गंगा नदी पर गांधी सेतु के समानांतर 14.5 किमी नए चार लेन पुल का पहुंच पथ के साथ निर्माण
-2288 करोड़ की लागत से एनएच 131ए के 49 किमी लंबी नरेनपुर-पूर्णिया खंड के चार लेन का चौड़ीकरण
-1478.40 करोड़ से एनएच 106 में कोसी नदी पर 28.93 किमी लंबे नए चार लेन पुल का पहुंच पथ के साथ निर्माण 
-1149.55 करोड़ की लागत से एनएच 31 के 47.23 किमी लंबी बख्तियारपुर-रजौली खंड का दो पैकेज में चार लेन चौड़ीकरण कार्य  
-1149.55 करोड़ की लागत से एनएच 31 के 47.23 किमी लंबी सड़क बख्तियारपुर-रजौली खंड का तीन पैकेज में चार लेन चौड़ीकरण कार्य  
-1110.23 करोड़ की लागत से एनएच 131बी में गंगा नदी पर विक्रमशिला सेतु के समानांतर 4.455 किमी लंबे नए चार लेन पुल का पहुंच पथ के साथ निर्माण
-913.5 करोड़ की लागत से एनएच 131 जी के पटना रिंग रोड परियोजना में 39 किमी लंबी रामनगर-कन्हौली सड़क का छह लेन चौड़ीकरण कार्य 
-855.93 करोड़ की लागत से 60.80 किमी लंबी एनएच 30 के परारिया-मोहनिया सड़क का चार लेन चौड़ीकरण 
– 885.41 करोड़ की लागत से एनएच 30 के 54.53 किमी लंबी आरा-परारिया सड़क का चार लेन चौड़ीकरण कार्य

Share This Post
Kunal Raj
Editor-In-Chief l Software Engineer l Digital Marketer