Coronavirus राष्ट्रीय

भारत में भी लोगों को लगेगा कोविड का बूस्टर डोज? यहां जानें सरकार का जवाब

पूरी दुनिया में कोरोना की बूस्टर डोज को लेकर चर्चाएं हो रही हैं। ऐसे में भारत में भी यह सवाल किया जा रहा है कि क्या हमारे देश में लोगों को बूस्टर डोज लगाई जाएगी, इसका जवाब आपको मिल गया है. मामले से परिचित लोगों ने कहा है कि अभी भारत की प्राथमिकता है कि वह अपनी व्यस्क आबादी का टीकाकरण पूरा करे और 12 से 18 साल के बच्चों का टीकाकरण शुरू करें। उन्होंने कहा कि हमें बूस्टर डोज की जरूरत पड़ सकती है लेकिन अभी हमारा ध्यान इस पर नहीं है।

नाम न छापने की शर्त पर एक बड़े सरकारी अधिकारी ने कहा, “आखिरकार हमें बूस्टर खुराक की आवश्यकता हो सकती है, और इस पर कुछ चर्चाएं भी हुई हैं, लेकिन वर्तमान में ध्यान सभी वयस्कों के टीकाकरण और कार्यक्रम में बच्चों को शामिल करने की प्रक्रिया पर है। अब जायडस कैडिला वैक्सीन को मंजूरी दी गई है। इस समय बहुत विचार किया जा रहा है कि इसे (Zydus वैक्सीन) सिस्टम में कैसे पेश किया जाए। ”

ZyCoV-D, Zydus वैक्सीन को जल्द ही वैक्सीन कार्यक्रम के हिस्से के रूप में पेश किए जाने की संभावना है, हालांकि बच्चों को टीका लगाने की घोषणा का भी इंतजार है। बुधवार रात तक, भारत ने 23.6 करोड़ लोगों को पूरी तरह से टीका लगाया है, अन्य 40.9 करोड़ लोगों को वैक्सीन की एक खुराक प्राप्त हुई है।

68.7% पात्र आबादी को कम से कम एक खुराक दिए जाने के बाद, यह संभावना है कि पहली खुराक की मांग कम होने लगेगी। कई पश्चिमी देशों में, अधिकतम सीमा पात्र जनसंख्या का लगभग 80% है। बूस्टर डोज की बात करें तो अब कई देशों में बूस्टर डोज का लगना भी शुरू हो गया है।

एक कोविड -19 बूस्टर शॉट वैक्सीन की एक अतिरिक्त खुराक है, ताकि मूल खुराक द्वारा प्रदान की गई सुरक्षा फीकी न पड़े। अमेरिका ने उच्च जोखिम वाले स्वास्थ्य कर्मियों और अन्य लोगों के लिए बूस्टर खुराक को मंजूरी दी है। हालांकि वैक्सीन असमानता के कारण बूस्टर शॉट को लेकर कई विवाद भी हैं। लोगों का कहना है कि दुनिया में कुछ देश ऐसे भी हैं जहां लोगों को कोरोना वैक्सीन का पहला डोज भी नहीं लगा है और लोग बूस्टर डोज ले रहे हैं। अफ्रीका के कई हिस्सों में लोगों को अभी तक वैक्सीन की एक खुराक भी नहीं मिली है।

Share This Post